विवाह के बाद पत्नी की गृहस्थी ही नहीं, बढ़ाइए उसका Intellect और Status भी

कुछ दिन पहले मैंने लिखा था कि अच्छी किताब और अच्छी महिला अगर किसी कुपात्र के हाथ फँस जाए तो भरसक उसे मुक्त करा देना चाहिए. इस पर एक मित्र ने सवाल किया कि कुपात्र है, इसका निर्धारण कैसे होगा?

इस मामले में अपना funda बहुत स्पष्ट है… आपसे शादी करके यदि आपकी पत्नी के जीवन में कोई value add नहीं होती तो आप कुपात्र हैं. Value Addition का मतलब क्या होता है?

Now don’t give me this crap कि she’s the proud mother of a few successful Kids… And a perfect house wife, home maker (full time 24×7×365 maid)!

अगर आपसे शादी करके आपकी पत्नी का intellect नहीं बढ़ता, उसका status नहीं बढ़ता, वो एक career woman के रूप में establish नहीं होती, वो आपसे कम कमाती है, यदि समाज के एक वर्ग में लोग आपको उनके पति के रूप में न पहचानने लगें, यदि आपकी पत्नी की पहचान एक successful महिला के रूप में नहीं होती तो आप समझ लीजिए कि आप कुपात्र हैं.

मैं ये बातें सिर्फ लफ्फाज़ी लंतरानी पेलने के लिए नहीं बोल रहा. मैंने अपने जीवन में इसे जिया है… आज से 28 साल पहले जब मेरी शादी हुई तो मेरी पत्नी एक sports woman थी, 3rd division BA पास… आज वो 3 champion पहलवानों की माँ और सफल पत्नी होने के साथ एक सफल स्थापित educationist और administrator हैं और private sector में 6 figure salary लेती हैं.

हज़ारों हज़ारों बच्चों को शिक्षा, संस्कार, skill, आत्मविश्वास देने का काम किया. हज़ारों बच्चों का जीवन संवारने का काम किया. शादी हुई तो ये एक सामान्य अनपढ़ ग्रेजुएट sports woman थीं.

जब मैं इनके जीवन में आया तो इन्होंने मेरी संगत में दुनिया का सबसे बेहतरीन संगीत सुनना सीखा, साहित्य पढ़ा, बेहतरीन विश्व सिनेमा देखा, मंच से बोलने लायक बेहतरीन हिंदी और अंग्रेज़ी बोलना सीखा (इनकी मातृभाषा पंजाबी है), एक professional की तरह anchor करना सीखा, स्वयं को एक बेहतरीन teacher, mentor, counseller, philosopher, guide, administrator और leader के रूप में स्थापित किया. इसके अलावा पूरे देश में मेरे साथ, और ज़रूरत पड़ने पर अकेले ही यायावरी भी की…

अगर ये महिला किसी कुपात्र के पल्ले पड़ गयी होती तो इस समय कहीं full time 24×7×365×50 अवैतनिक house wife (maid) के रूप में कार्यरत होती.

मेरी इस लेख का आशय कहीं से भी home maker महिलाओं और full time mothers को या उनके काम को कमतर बताना नहीं है… वो परिवार और समाज के लिए सर्वाधिक महत्वपूर्ण कार्य कर रही हैं…

अब जिम्मेवारी उनके पति और परिवार की है कि वो किस प्रकार उनके इस home making और motherhood में हाथ बँटा के जल्दी से जल्दी उन्हें इस से निवृत्त करें या फुरसत दें जिस से कि वो भी अपना career संवार सकें, वो भी खुद को साबित कर सकें, वो भी काल के कपाल पे अपना नाम लिख सकें ………

धिक्कार है उस पुरुष को जो अपने जीवन में अपनी पत्नी को एक सफल career woman के रूप में स्थापित न कर सके. पर उसके लिए आपको उस मानसिकता को तोड़ना होगा जो ऊपर दिए चित्र में दिख रही है.

क्रमशः…

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY