रामबाम मेडिकल सेंटर : पहली बार हुआ प्रत्यारोपण के जरिये Heart Failure का इलाज

इजरायली स्टार्टअप की ओर से विकसित एक खास डिवाइस से डायस्टोलिक Heart Failure के मरीजों की उम्मीदें बढ़ी हैं. कोरअसिस्ट एक इजरायली स्टार्टअप कंपनी है, जिसने कोरोल्लाआर का विकास किया है. यह एक इलैस्टिक डिवाइस है, जिसे हार्ट के बाएं वेंट्रिकल के अंदर प्रत्यारोपित किया जाता है. इसके लिए मिनिमली इन्वेंसिव प्रक्रिया अपनाई जाती है.

यह डिवाइस वेंट्रिकल वॉल पर डायरेक्ट इक्सपेंशन फोर्स का इस्तेमाल करते हुए कार्डियक डायस्टोलिक फंक्शन को इंप्रूव करती है, जिससे कि हार्ट सुचारु रूप से काम करे. कोरअसिस्ट टेक्नॉलजी का आविष्कार डॉ. याएर फेल्ड ने किया है, जो कि रामबाम हेल्थ केयर कैंपस (रामबाम) में हृदयरोग विशेषज्ञ हैं. इस कार्य में उनके सहयोगी डॉ. योताम रेजनर और डॉच शाय दुबि रहे.

इस डिवाइस का इस्तेमाल सबसे पहले रामबाम हॉस्पिटल में 72 साल के कनाडा के मरीज मैकलॉचलैन पर किया गया. उन्हें इस प्रक्रिया के तहत इलाज के लिए ही भर्ती किया गया था. उन्होंने बताया कि वह डायस्टोलिक Heart Failure के इलाज के लिए कनाडा में विकल्प तलाश रहे थे. उनकी पत्नी ने इंटरनेट पर कोरोल्ला प्रत्यारोपण के बारे में पढ़ा और रामबाम के कार्डियक सर्जरी विभाग के हेड डॉ. करेन बिटॉन वॉर्म्स से संपर्क किया.

मैकलॉचलैन का इलाज कर रहे डॉक्टर ने उन्हें इसके लिए प्रोत्साहित किया. इसके बाद मैकलॉचलैन ने यहां सफल सर्जरी के बाद अपना बेहतरीन अनुभव शेयर किया. वहीं, प्रोफेसर गिल बोलोटिन ने बताया कि कई मरीज इस प्रक्रिया के तहत इलाज कराने में रुचि दिखा रहे थे, लेकिन कोई सबसे पहले सर्जरी के लिए तैयार नहीं हो रहा था.

– साभार इजरायल हिंदी में

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY