हंसिबा खेलिबा धरिबा ध्‍यानं

एक साधु हुआ.
वह जीवनभर इतना प्रसन्न था कि लोग हैरान थे.
लोगों ने कभी उसे उदास नहीं देखा,
कभी पीड़ित नहीं देखा.

उसके मरने का वक्त
आया और उसने कहा कि
‘अब मैं तीन दिन बाद मर जाऊंगा.
और यह मैं इसलिए बता रहा हूं कि तुम्हें
स्मरण रहे कि जो आदमी जीवन भर हंसता था,

उसकी कब्र पर कोई रोए नहीं.
यह मैं इसलिए बता रहा हूं कि जब मैं मर जाऊं,
तो इस झोपड़े पर कोई उदासी न आए.
यहां हमेशा आनंद था, यहां हमेशा खुशी थी.
इसलिए मेरी मौत को एक उत्सव बनाना.
मेरी मौत को दुख मत बनाना,
मेरी मौत को एक उत्सव बनाना.’

लोग तो दुखी हुए, बहुत दुखी हुए.
वह तो अदभुत आदमी था.
और जितना अदभुत आदमी हो,
उतना उसके मरने का दुख घना था.
और उसको प्रेम करने वाले बहुत थे,
वे सब तीन दिन से इकट्ठे होने शुरू हो गए.
वह मरते वक्त तक लोगों को हंसा रहा था
और अदभुत बातें कह रहा था और
उनसे प्रेम की बातें कर रहा था.

सुबह मरने के पहले उसने एक गीत गाया.
और गीत गाने के बाद उसने कहा,
‘स्मरण रहे, मेरे कपड़े मत उतारना.
मेरी चिता पर मेरे पूरे शरीर को चढ़ा
देना कपड़ों सहित. मुझे नहलाना मत.’

उसने कहा था, आदेश था. वह मर गया.
उसे कपड़े सहित चिता पर चढ़ा दिया.
वह जब कपड़े सहित चिता पर रखा गया,
लोग उदास खड़े थे, लेकिन देखकर हैरान हुए.
उसके कपड़ों में उसने फुलझड़ी
और पटाखे छिपा रखे थे.

वे चिता पर चढ़े और फुलझड़ी
और पटाखे छूटने शुरू हो गए.
और चिता उत्सव बन गयी.
और लोग हंसने लगे.
और उन्होंने कहा,
‘जिसने जिंदगी में हंसाया,
वह मौत में भी हमको हंसाकर गया है.’

जिंदगी को हंसना बनाना है.
जिंदगी को एक खुशी और
मौत को भी एक खुशी.

और जो आदमी ऐसा
करने में सफल हो जाता है,
उसे बड़ी धन्यता मिलती है
और बड़ी कृतार्थता उपलब्ध होती है.
और उस भूमिका में जब कोई
साधना में प्रवेश करता है,

तो गति वैसी होती है,
जिसकी हम कल्पना
भी नहीं कर सकते.
तीर की तरह विकास होता है.

ध्यान-सूत्र, प्रवचन ५, ओशो

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY