दोस्त हो तो फिरोज़ नाडियाडवाला जैसा

फिल्मी दुनिया अपनी चकाचौंध से लोगो को आकर्षित करती है. आम लोग फिल्मकारों को उनकी फिल्में औऱ ग्लैमर लाइफ की वजह से जानते हैं पर इस चकाचौंध के पीछे छुपी फिल्मकारों के जीवन की असलियत से लोग अक्सर रूबरू नहीं हो पाते हैं. कई ऐसे नामी फिल्मी कलाकार हैं जो गुमनामी और बेबसी की जिन्दगी गुजारते हैं पर उनके बारे में लोग कम ही जान पाते हैं.

ऐसी चकाचौंध भरी जिंदगी के पीछे एक ऐसा काला वातावरण है जो लोगों को डराता है. स्टारडम या मतलब खत्म होते ही यार, दोस्त, कलाकार, सहकर्मी सब साथ छोड़ देते है. मतलब की इस फिल्मी दुनिया में निर्माता फ़िरोज़ नाडियाडवाला एक ऐसे शख्स के रूप में सामने आये हैं, जो इस फरेबी दुनिया का आश्वस्त करने वाला किरदार बन सकता है. कुछ विवादों से फ़िरोज़ का नाता रहा है लेकिन मायानगरी मुम्बई के वह उन चुनिंदा लोगों में से हैं जो यह विश्वास दिलाते हैं कि रिश्तों की अहमियत अभी जिंदा है.

आपकी जानकारी के लिए एक फिल्मकार पिछले 10 महीने से कोमा की हालात में है जिसकी खबर सुनकर लोगों को शायद हैरानी हो. इस अदाकार, फिल्मकार ने ना सिर्फ अपने अभिनय का जौहर दिखाया है बल्कि अपने कुशल निर्देशन से भरपूर मनोरंजक फिल्में भी दी हैं.

ये हैं कॉमेडी एक्‍टर नीरज वोरा जिन्होंने मन, विरासत, रंगीला जैसी फिल्मों में अपने अभिनय से लोगों को खूब हंसाया, और हेराफेरी जैसी सुपर कॉमेडी फिल्म का निर्देशन किया है पर आज हालात ने उन्हें इस कदर बेबस कर दिया है कि वो अब सिर्फ एक जिंदा लाश बन कर रह गए हैं. ऊपर दी गयी तस्वीर में फ्रेंच कट दाढ़ी वाले शख्स हैं नीरज वोरा और सूट पहने माइक पर बोल रहे व्यक्ति हैं फ़िरोज़ नाडियाडवाला.

19 अक्टूबर, 2016 को आए ब्रेन स्ट्रोक की वजह से नीरज को दिल्ली स्थित एम्स में एडमिट कराया गया था. पहले उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था. हालांकि, बाद में हालत में कुछ सुधार के बाद उनके दोस्त मार्च, 2017 में उन्हें मुंबई ले आए. यहां एक तकलीफ थी. नीरज के परिवार में कोई नहीं है. उनके माता, पिता और पत्नी सब का निधन हो चुका है. ऐसी परिस्थिति में सामने आए उनके जिगरी दोस्त. नीरज को जब मुम्बई लाया गया तब से नीरज उन्हीं के यहां रह रहे हैं. वो दोस्त है मशहूर फिल्म प्रोड्यूसर फ़िरोज़ नाडियाडवाला.

प्राप्त जानकारी के अनुसार कोमा की हालत में होने कारण नीरज के लिए उनके खास दोस्त फ़िरोज़ नाडियाडवाला ने जुहू स्थित अपने घर ‘बरक़त विला’ के एक कमरे को ही आईसीयू में कन्वर्ट करा दिया है. मार्च 2017 से, जब से नीरज फ़िरोज़ के यहां आए है, नीरज के लिए चौबीसों घंटे एक नर्स, वॉर्ड ब्वॉय और कुक रहता है. इसके अलावा फिजियोथेरेपिस्ट, न्यूरो सर्जन, एक्यूपंक्चर थेरेपिस्ट और जनरल फिजिशियन हर हफ्ते विज़िट पर आते हैं.

नीरज फिलहाल जिस कमरे में रहते हैं, उसे उनकी फेमस फिल्मों रंगीला, विरासत, हेराफेरी, फिर हेराफेरी, गोलमाल, दौड़ और खिलाड़ी 420 के पोस्टर्स से सजाया गया है. कमरे में टीवी भी लगी है, जिसमें उनकी फेवरेट फिल्मों को दिखाया जाता है, ताकि वो जल्द से जल्द कोमा से बाहर आ सकें.

जानकारी के मुताबिक नीरज की तबीयत में काफी सुधार हो रहा है और नीरज ऑडियो थैरेपी के सामने प्रतिक्रिया करते हैं, विशेषकर जब उनके पिता स्वर्गीय पंडित विनायक राय नंदलाल वोरा का संगीत बजता है. हालांकि, नीरज वोरा अभी तक अच्‍छे से बोल पाने में सक्षम नहीं हैं. आशा है ईश्वर के आशीर्वाद और फ़िरोज़ की बेमिसाल दोस्ती से नीरज जल्द ही स्वस्थ हो कर वापस फिल्मी दुनिया में लौट आएंगे.

सलाम फ़िरोज़ नाडियाडवाला!

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY