Sach Pass : क्योंकि डर के आगे है प्रकृति का नैसर्गिक सौन्दर्य

इस समय मनाली में हूँ. Bike जब ली थी तो दिल में ख्वाहिश बस यही थी कि दुनिया देखनी है. लेह लद्दाख अभी तक छूटा हुआ है. Youtube पर लोग बताते थे कि Sach Pass दुनिया की सबसे खतरनाक Road है.

Ultimate Adventure… अपना तो उसूल है जिंदगी का… जो चीज़ डराए उसे सबसे पहले काबू करो. अपन ने Declare कर दिया… लेह लद्दाख बाद में देखेंगे… पहले Sach Pass किल्लाड़ उदयपुर करेंगे.

जालंधर में Bikers का एक club है Rider’s Nest. ये Royal Enfield Thunder Bird का चस्का दरअसल उन्हीं की संगत में पड़ा. मेरे एक मित्र Bikes के शौकीन हैं. उन्होंने ली थी Thunder Bird. मैं 350CC से ही संतुष्ट था. उन्होंने समझाया 500CC के नीचे कुछ नहीं.

मैंने Riders Nest के गोपी भाई से कहा, अगले 3 दिन मौका है. गुरमीत राम रहीम के चक्कर में पंजाब में स्कूल कॉलेज बंद हैं. चलो Sach Pass हो आएं. आनन फानन में 8 rider तैयार.

शाम 2 बजे जालंधर से निकलना का प्लान बना. निकलते निकलते 3 बज गए. तय हुआ कि रात Dalhousie रुक के सुबह चढ़ाई कर दें. परसों सुबह dalhousie से निकलते चाय नाश्ता करते 9 बज गए.

Dalhousie से Chamera Dam होते हुए बैरागढ़. वहां से Off Road शुरू होता है. Sach Pass दरअसल एक नई सड़क बनाई गई है जो हिमाचल प्रदेश को लेह लद्दाख से जोड़ती है. Sach Pass उस road का सबसे ऊंचा point है जो लगभग 4500 मी. यानि कि 14000 फ़ीट पर है. बैरागढ़ तक तो सड़क ठीक है पर उसके आगे सड़क नहीं है. कच्चा पत्थर मिट्टी कीचड़, छोटे बड़े Boulder यही सब है, अगले 220 Km.

वहां से 85 km आगे किल्लाड़ है. ये Pangi Valley का एक गांव है. उस रात हम किल्लाड़ रुके. उस पूरे इलाके में Mobile Network नहीं है. किल्लाड़ में सिर्फ BSNL का post paid चल रहा था वो भी सिर्फ calling. Net नहीं.

अगली सुबह 8.30 निकले. 85 Km उदयपुर. ये रास्ता Sach Pass से भी ज़्यादा खराब और दोगुने से ज़्यादा लंबा था. वहाँ आ कर Lunch किया. आगे अभी 16 km का कच्चा रास्ता बाकी था. उसके बाद हमने लाहौल स्पीति Valley में प्रवेश किया. 40 Km बाद Tandi आया. अब हम मनाली Leh Highway पे थे. वहां से 100 Km चल के कल रात 9 बजे मनाली पहुंचे.

सवाल ये है कि आखिर लोग ये 220 Km इस टूटी हुई बेहद खतरनाक सड़क पर क्या करने आते हैं? हिमालय खींच लाता है. हिमालय की खूबसूरती खींच लाती है. अगर ये 220 Km की सड़क न हो तो आप हिमालय का बहुत बड़ा हिस्सा miss कर देते हैं. कल मैंने देखा कि दुनिया का हर पहाड़ Unique है. हरेक की अपनी एक अलग Beauty है.

वो कहते हैं न कि दुनिया के हर आदमी की उंगलियों के निशान अलग उसी तरह दुनिया का हर पहाड़ अलग है. Sach Pass किल्लाड़ Udaipur होते हुए आप एक बेहद खूबसूरत इलाके से गुजरते हैं.

उसपे तुर्रा ये कि जिसने इस रास्ते पे गाड़ी चला ली उसने सबसे कठिन रास्ता चल के देख लिया. उसके बाद बाकी सब बहुत आसान है. इस रूट पर निकलने से पहले पूरी तैयारी से निकलिये. पूरा रास्ता ज़्यादातर सुनसान बियाबान है. मदद आसानी से मिलती नहीं है.

मौसम साथ दे और आपकी गाड़ी धोखा न दे तो इस स्ट्रेच में आप औसतन 15 km प्रति घंटा cover कर पाते हैं. जीवन में एक बार ये अनुभव ज़रूर लेना चाहिए.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY