शिमला का गुड़िया गैंगरेप मर्डर केस : IG और DSP को CBI ने किया गिरफ्तार

शिमला. हिमाचल प्रदेश के कोटखाई की गुड़िया गैंगरेप मर्डर केस में सीबीआई ने बड़ी कार्रवाई करते हुए मंगलवार को आईजी और डीएसपी समेत आठ पुलिसवालों को गिरफ्तार किया है. सीबीआई ने इन सभी पुलिस वालों को एक आरोपी की पुलिस हिरासत में मौत के मामले में गिरफ्तार किया है.

सीबीआई ने इस मामले की शुरूआती जांच करने वाली एसआईटी चीफ आईजी जहूर जैदी और डीएसपी मनोज कुमार समेत आठ अफसरों को गिरफ्तार किया है. इन सभी पर सबूतों से छेड़छाड़ का आरोप लगा है.

सीबीआई की इस कार्रवाई से पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया है. गिरफ्तार किए गए लोगों पर गुड़िया गैंगरेप-मर्डर केस के असली आरोप‌ियों को बचाने का आरोप है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ सीबीआई सूत्रों ने बताया कि पुलिस एसआईटी ने इस मामले में गलत लोगों को गिरफ्तार किया था.

वहीं इस मामले में मंगलवार को हाई कोर्ट ने आरोपी आशीष चौहान की जामनत याचिका पर सुनवाई करते हुए सीबीआई को नोटिस जारी किया है. इतना ही नहीं हाई कोर्ट ने निर्देश दिया है कि 11 सितंबर तक आरोपी आशीष की जांच से जुड़ी संबंधित रिपोर्ट कोर्ट में दाखिल करें.

आपको बता दें कि 22 जुलाई को सीबीआई ने आशीष के खिलाफ आईपीसी की धारा 376, 302, 34, 120 बी और पॉस्को अधिनियम की धारा 6 के तहत केस दर्ज किया था.

उल्लेखनीय है कि बीती चार जुलाई को गुड़िया को स्कूल से लौटते वक़्त एक पिकअप गाड़ी मिली. गाड़ी के चालक राजेंद्र उर्फ राजू ने गुड़िया को गाड़ी में बैठने के लिए कहा. पुलिस ने बताया कि राजू के साथ स्कूल के बच्चे अक्सर गाड़ी में जाते थे.

गाड़ी की अगली सीट पर पहले से ही दो युवक बैठे थे. राजू ने उन्हें उतार कर पीछे बैठने को कहा और गुड़िया को आगे बैठा लिया. राजू बगीचे में स्प्रे मशीन छोड़ने जा रहा था. स्प्रे मशीन छोड़ने के बाद सब युवकों ने आपस में सलाह-मशविरा किया.

इसके बाद गुड़िया को गाड़ी से जबरन घसीट कर सड़क से नीचे जंगल में ले गए. यहां पर राजू ने गुड़िया के साथ दुष्कर्म किया. राजू के बाद अन्य आरोपियों ने भी बारी-बारी से गुड़िया के साथ दुष्कर्म किया.

पुलिस का कहना था कि सभी आरोपी नशे में धुत्त थे. इस दौरान जब वे अप्राकृतिक दुष्कर्म कर रहे थे तो नशे में उन्होंने गुड़िया का मुंह दबा दिया. मिट्टी में मुंह दबने से उसकी सांस रुक गई, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई.

लापता होने के दो दिनों बाद यानी 6 जुलाई को कोटखाई के जंगलों में छात्रा की लाश निर्वस्त्र हालत में मिली थी. छात्रा की गैंगरेप के बाद बेरहमी से हत्या की गई थी. शुरूआत में केस की जांच कर रही एसआईटी ने इस मामले में 6 लोगों को गिरफ्तार किया था. इनमें से एक आरोपी की कोटखाई थाने में 18 जुलाई की रात हत्या कर दी गई थी. सीबीआई ने इन दोनों ही मामलों में केस दर्ज किया है.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY