VIDEO : ले. कर्नल पुरोहित को षडयंत्रपूर्वक फंसाने की साज़िश का खुलासा

कर्नल श्रीकांत पुरोहित, जिनका नाम सुनकर ही “हर राष्ट्रवादी” के मन में उनके प्रति अगाध प्रेम और सम्मान जाग उठता है.

कर्नल श्रीकांत पुरोहित जिनकी रिहाई पर “सोशल मीडिया” में राष्ट्रवादियों के मन में खुशी की लहर दौड़ गयी, कई लोगों ने अपनी प्रोफाइल पिक बदलकर कर्नल पुरोहित की फोटो लगाई.

यहाँ मैंने “हर राष्ट्रवादी” को विशेष रूप से उद्धृत किया है क्योंकि जिन्होंने भी उन्हें झूठे केस में फंसाकर यातनाएं दी वो राष्ट्रवादी तो हो ही नहीं सकता, ऐसे राष्ट्र विरोधी लोगों की मैन स्ट्रीम मीडिया ने कभी सुध नहीं ली, नौ साल तक जो व्यक्ति जेल में बेगुनाह होते हुए भी जेल में रहकर अमानवीय यातनाएं सहता रहा, उसकी बेगुनाही के सारे सबूत होते हुए भी लोकतंत्र के चौथे खम्बे बस खम्बे बनकर ही खड़े रहे. उन खम्बों पर टिकी न्याय की छत उनके सर से हट गयी, लेकिन उस खम्बे ने लोकतंत्र की ज़रा परवाह नहीं की. अपने अन्नदाताओं के फेंके टुकड़ों को मुंह में दबाए चुपचाप खड़ा रहा.

ऐसे में “सोशल मीडिया” में उनकी रिहाई के बाद राष्ट्र भक्ति की ऐसी लहर उठी कि आज हर कोई उसे देख सुनकर अचंभित ही नहीं, क्रोध से थर थर कांप रहा है. जी हाँ, श्री नितिन शुक्ला ने फेसबुक पर अपने लाइव टॉक शो में कर्नल पुरोहित के बेगुनाही के ऐसे सबूत पेश किये कि हर कोई अचंभित है कि नौ साल तक अदालत के पास उनकी बेगुनाही के सबूत होने के बावजूद भी कैसे वो आँखों पर पट्टी बांधे देश के लिए अपनी जान की बाजी लगा देने वाले एक सिपाही को जेल में मरता हुआ देख रहा था.

कारण सिर्फ एक, क्योंकि अब तक जिनकी सरकार थी उन्होंने एक ऐसा जाल बिछाया हुआ था कि जो उसमें जाता बस फंसकर रह जाता. और यह जाल इतनी मजबूती से बुना गया था कि 2014 में सरकार बदलने के बावजूद उनको भी उस चक्रव्यूह को तोड़ने में तीन साल लग गए.

नितिन शुक्ला जी ने अपने लाइव टॉक शो में कर्नल पुरोहित की बेगुनाही के ही नहीं, बल्कि उन लोगों के विरोध में भी एक एक सबूत पेश किये जो इस साज़िश में शामिल थे.

यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो चुका है क्योंकि इस वीडियो में नितिन जी ने बताया कैसे कर्नल पुरोहित को बिना गिरफ्तारी वारंट के जेल में रखा, उनकी त्वचा फाड़कर नसें बाहर खींची गयी, उन्हें उलटा लटकाकर उनकी दोनों टांगों को पकड़कर ऐसे चीर दिया गया कि उनके प्राइवेट पार्ट ज़ख़्मी हो गए.

ये सब किसलिए? सिर्फ इसलिए क्योंकि उन्होंने आतंकवाद में लिप्त सीमी के खिलाफ सबूत पेश किये, क्योंकि उन्होंने राष्ट्रवादी संस्था अभिनव भारत की इमानदारी के सबूत पेश किये, क्योंकि उन्होंने पहले ही बता दिया था कि पाकिस्तान से कुछ लोग आने वाले हैं भारत में बम ब्लास्ट करने, क्योंकि उन्होंने मालेगांव में होने वाली दुर्घटना की पहले ही रिपोर्ट कर दी थी, क्योंकि उन्होंने फेक करंसी स्कैम में लिप्त बड़े राजनेताओं के नाम उजागर कर दिए थे, क्योंकि वो खुद आतंकवादियों के भेष में अपनी जान की बाजी लगाकर आतंकवादियों के बीच रहे और उनके खिलाफ सारे सबूत सेना को भेजते रहे?

और उसी सेना के एक सीनियर अफसर कर्नल श्रीवास्तव ने उनको आतंकवादी बताकर डबल क्रॉस किया. जो सबूत कर्नल पुरोहित आतंकवादी के भेष में सेना को भेजते रहे उसे ही उनके खिलाफ साबित कर उन्हें सच्ची का आतंकवादी घोषित कर दिया.

और इतना सबकुछ हमारी आँखों के सामने होता रहा, पिछली सरकार आँख बंद कर सबकुछ देखती रही, आखिर ऐसा कौन सा फायदा पिछली सरकार को या उस साज़िश में लिप्त लोगों को मिल रहा था उसके एक एक सबूत नितिन जी ने इस वीडियो में दिए हैं.

सरकार बदलने के बाद आज कर्नल पुरोहित जमानत पर रिहा हो गए हैं, पूरी तरह से सुरक्षित निगेहबानी में है, कोई चिड़िया भी अब पर नहीं मार सकती. सरकार और देश का क़ानून तो अपनी प्रक्रिया पूरी करेगा ही लेकिन पूरा वीडियो देखने के बाद हम जनता को यह तय करना है कि सेलेब्रिटियों की छोटी छोटी बातों में, छोटे छोटे बयानों पर और उनकी ओछी हरकतों पर फेसबुक पर बड़े बड़े लेख लिखने वाले हमारे देश के इस सच्चे सिपाही के लिए क्या करती है.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY