देर से ही सही, पाप ने हमेशा पुण्य से शिकस्त ही खायी है

भारत के भीड़तंत्र ख़ास तौर पर अपने गुरुओं पर अपार आस्था रखने वाले श्रद्धालुओं की मानसिकता की थाह लेना सरल कार्य नहीं है. जाने यह सबक इन श्रद्धालुओं ने कहां से सीख लिया है कि दुष्कर्म करने वाले बलात्कारी और कानून द्वारा घोषित अपराधी के पक्ष में खड़े हो जाओ, आगजनी और उपद्रव करो और सत्ता को चिनौती दो.

भर्त्सना अथवा निंदा करने के बजाय अपराधी के पक्ष में उतरो और सामाजिक मूल्यों और न्याय-प्रक्रिया की धज्जियां उड़ाओ. पब्लिक के इस अविवेकपूर्ण गुंडेपन को देख हमारी अदालतों का सहम/सिहर जाना स्वाभाविक है और यह हमारी न्यायपालिका के कार्य-निर्वहन के लिए कोई सुखद स्थिति नहीं है.

पापी को दंड देना न्यायालय का काम है और उस दंड को कार्यान्वित करवाना सरकार का काम. अगर इसी तरह से दबंगई का सहारा लेकर लोगबाग अपराधी का साथ देने लगें तो फिर न्यायप्रक्रिया की ज़रूरत ही क्या है? हमारी न्याय व्यवस्था में दोषी को पूरा अवसर दिया जाता है कि वह अपनी बेगुनाही साबित करे. गंभीर आरोपों के चलते ही सज़ा सुनाई जाती है.

दरअसल, इस तरह के अनियंत्रित उपद्रव बिना कारण परवान नहीं चढ़ते. राजनीतिक पार्टियों, धर्म-गुरुओं और श्रधालुओं के बीच एक मौन-सहमति बनी रहती है– वोट लेने-देने के मामले को लेकर. धर्मगुरु जानता है कि उसके पास श्रद्धालुओं की अकूत शक्ति रूपी जादुई चिराग है और वोट-लोलुप राजनीतिक पार्टियाँ भी अच्छी तरह से जानती हैं कि धर्म-गुरु उनका त्राता है.

यदि वह उनके पक्ष में फ़तवा या फरमान जारी करे तो राजनीतिक रण में उन्हें भारी लाभ हो सकता है. यों, धर्म-गुरु भी हवा का रुख देखकर अपनी वफादारियां बदलते रहते हैं. श्रद्धालुओं में अपनी आशातीत लोकप्रियता और मज़बूत पकड़ को वे भुनाने का भरसक यत्न करते हैं. इस प्रक्रिया में वे अपनी हर तरह की इच्छा-पूर्ति के लिए हर तरह का उचित-अनुचित काम करते हैं और आश्वस्त रहते हैं कि सत्ताधारी पार्टी उनका कुछ बिगाड़ नहीं सकती.

मगर, वे यह नहीं जानते कि अंततः जीत हमेशा सत्य की होती है, असत्य की नहीं. देर से ही सही, पाप ने हमेशा पुण्य से शिकस्त ही खायी है. ‘सत्यमेव जयते नानृतम’ मुण्डक उपनिषद का यह आप्त-वचन राजनेताओं, धर्मगुरुओं और श्रद्धालुओं पर समान रूप से लागू होता है.

Comments

comments

SHARE
Previous articleअचानक बहुत याद आये ओशो
Next articleआरंभ हो प्रचंड!
blank
Member, Hindi Salahkar Samiti, Ministry of Law & Justice (Govt. of India) SENIOR FELLOW,MINISTRY OF CULTURE (GOVT.OF INDIA) 2/537 Aravali Vihar(Alwar), Rajasthan 301001 (डॉ० शिबन कृष्ण रैणा) पूर्व सदस्य,हिंदी सलाहकार समिति,विधि एवं न्याय मंत्रालय,भारत सरकार। पूर्व अध्येता,भारतीय उच्च अध्ययन संस्थान,राष्ट्रपति निवास,शिमला तथा पूर्व वरिष्ठ अध्येता (हिंदी) संस्कृति मंत्रालय,भारत सरकार। सदस्य,'पनुन कश्मीर' की मानवाधिकार समिति।(संयुक्त राष्ट्रसंघ एवं संयुक्त राष्ट्रसंघ मानवाधिकार परिषद हेतु)

LEAVE A REPLY