मोदी पर उमड़ी ममता की ‘ममता’, पर शाह से चिढ़ बरकरार

कोलकाता. आमतौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ आग उगलने वाली ममता बनर्जी के रुख में नितीश कुमार के एनडीए में शामिल होते ही बड़ी तब्दीली आई है. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अचानक प्रधानमंत्री के प्रति समर्थन व्यक्त करते हुए अब भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को अपने निशाने पर लिया है.

तृणमूल कांग्रेस नेता ममता बनर्जी ने कहा है कि उन्हें प्रधानमंत्री मोदी से कोई शिकायत नहीं है. लेकिन भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह देश में तानाशाही का माहौल तैयार कर रहे हैं. मैं नरेंद्र मोदी का समर्थन करती हूं, लेकिन अमित शाह का कतई समर्थन नहीं करती.

ममता ने अपने इस बयान से राजनीतिक विश्‍लेषकों को चौंका दिया है. दरअसल बीते शुक्रवार को सीएम ममता ने एक टीवी इंटरव्‍यू में कहा, ‘प्रधानमंत्री को दोष क्यों देना चाहिए? उनकी पार्टी को इसकी चिंता करनी चाहिए. अमित शाह जिस तरह से काम कर रहे हैं, उससे सभी डरे हुए हैं. अमित शाह की सुपर तानाशाही चल रही है. एक पार्टी का अध्यक्ष मंत्रियों की बैठक कैसे ले सकता है? देश का प्रधानमंत्री कौन है. मोदी या शाह?’

गौरतलब है कि ममता की ये टिप्पणी पहले बिखरे हुए विपक्ष को और परेशान करने के लिए काफी है. हालांकि दूसरी तरफ कहा जा रहा है कि ममता सरकार को केंद्र की तरफ से वित्तीय सहायता की जरूरत है, जो पीएम मोदी तारीफ करने का एक कारण भी हो सकता है.

भाजपा के प्रवक्ता और बंगाल भाजपा के नेता चंद्र बोस ने सीएम ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए कहा कि अमित शाह संगठनात्मक क्षमता वाले व्यक्ति हैं. इसे उन्होंने साबित भी किया है. पार्टी ने उनके नेतृत्व में कई बड़े चुनाव जीते हैं.

वहीं भाजपा के अन्य प्रवक्ता संबित पात्रा ने ममता के बयान पर कहा, ‘ममता बनर्जी के बयान से साफ है कि उन्होंने मोदी की नीतियों को स्वीकार किया है. जो कि गरीबों को ऊपर उठाने में सहायक है.’

पात्रा ने आगे कहा कि जो भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ खड़ा होगा. ये ऐसा होगा जैसे वो गरीब और गरीबों से जुड़ी नीतियों के खिलाफ खड़ा है. ममता इस तथ्य को स्वीकार कर चुकी हैं. धीरे-धीरे पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को भी स्वीकार कर लेंगी.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY