एनडीए में शामिल होगा जदयू, शरद ने कहा- मुझे बेघर करने की कोशिश

पटना. बिहार में सत्तारूढ़ जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नितीश कुमार और पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव में मचे घमासान के बीच शनिवार को जेडीयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में एनडीए में शामिल होने का प्रस्ताव पास कर दिया. वहीं शरद यादव ने जेडीयू को अपना बनाया घर बताते हुए कहा कि उनको बेघर करने की कोशिश की जा रही है.

जेडीयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में शनिवार को एनडीए में शामिल होने का प्रस्ताव पास हो गया. नितीश कुमार खेमे की ओर से पटना में हो रही राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक को लेकर विरोधी शरद यादव खेमे के कुछ समर्थकों ने सीएम आवास के बाहर नारेबाजी और प्रदर्शन किया. हालांकि, पुलिस ने उन्हें जल्द ही काबू में करके वहां से हटा दिया.

राष्ट्रीय कार्यकारिणी में इस प्रस्ताव पास हो जाने के बाद नितीश के नेतृत्व में जेडीयू का केंद्र सरकार में शामिल होने का रास्ता साफ हो जाएगा. एनडीए में शामिल होते ही मंत्रिमंडल विस्तार में पार्टी को 2 मंत्री पद मिलने की उम्मीद है.

वहीं बागी तेवर अपना चुके सांसद शरद यादव ने कहा है कि जिस घर को उन्होंने बनाया था, आज उसी घर को लोग कह रहे हैं कि यह घर उनका नहीं है. उन्होंने स्पष्ट कहा कि उनको बेघर करने की कोशिश की जा रही है.

पटना के श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में आयोजित ‘जनअदालत’ कार्यक्रम में लोगों को संबोधित करते हुए जेडीयू के पूर्व अध्यक्ष ने बिहार में महागठबंधन टूटने को जनादेश के साथ विश्वासघात की बात करते हुए कहा कि यहां गठबंधन की सफलता के बाद आगे गठबंधन की योजना बनाई गई थी.

उल्लेखनीय है कि नितीश कुमार ने पिछले महीने आरजेडी और कांग्रेस गठबंधन से नाता तोड़कर बिहार में भाजपा के साथ मिलकर सरकार बनाई है. इसके बाद से ही पार्टी के वरिष्ठ नेता और सांसद शरद यादव सहित उनके समर्थक पार्टी नेतृत्व से नाराज चल रहे हैं.

बिहार में जेडीयू के महागठबंधन छोड़कर भाजपा के साथ सरकार बनाने के बाद पार्टी में छिड़े घमासान के बाद शनिवार को शरद यादव पर कार्रवाई की जा सकती है. बागी रुख अपनाए शरद यादव की पार्टी से निकाला जा सकता है.

इसके साथ ही शरद खेमे के नेताओं पर भी कड़ी कार्रवाई की जा सकती है. सूत्रों का कहना है कि कार्रवाई होने के बाद शरद खेमा खुद को असली जेडीयू के तौर पर पेश कर सकता है, जिसके बाद पार्टी के चुनाव चिह्न को लेकर भी घमासान छिड़ने के आसार हैं.

हाल ही में नितीश के भाजपा के साथ सरकार बनाने के फैसले का विरोध करने पर शरद यादव को राज्यसभा में जेडीयू के नेता के पद से हटा दिया गया था. राज्यसभा सांसद अली अनवर को भी विपक्ष की मीटिंग में शामिल होने के कारण पार्टी के संसदीय दल से हटा दिया गया था.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY