‘उठो पार्थ गांडीव संभालो’, देश की सूरत बदल डालो

पत्रकारों, न्यूज़ चैनल वालों, प्रेस्टीट्यूट्स के चक्कर में पड़े रहे, इन कांग्रेसियों और उनके लटकन दलों के चक्कर में रहे तो आपका अहित होगा. क्योंकि जिसका आपसे सरोकार है उस पर वो आपका ध्यान जाने नहीं देंगे… तो ध्यान देने वाली बात है कि…

केंद्र सरकार ने चीन के 93 उत्पादों पर Anti-dumping duty लगा दीहै तगड़ी वाली… अब इसका नतीजा ये होगा कि इन चीनी उत्पादों के दाम बेतहाशा बढ़ जाएंगे. इससे आपका क्या फायदा?

याद रखिये एक सरकारी नौकरी पाके आप अपना परिवार पाल ले जाते हैं… लेकिन अगर एक व्यवसाय जमा दिया तो न सिर्फ अपना बल्कि अन्य कई परिवार पालने का कारण बनते हैं और आने वाली अपनी कई पीढ़ियों के लिए फलदार वृक्ष देकर जाते हैं…

तो समय आ गया है कि पढ़े लिखे नौजवान अपना व्यवसाय शुरू करें… प्लास्टिक, इलेक्ट्रॉनिक खिलौने बनाएं, बिजली की लड़ियाँ बनाएं, धागा बनाएं… कुछ भी बनाएं… हर वो 93 चीज़ बनाएं जिसपर anti dumping duty लगी है.

दिवाली आने वाली है, लड़ियाँ बनाइये और बेचिए… 35000 करोड़ का व्यवसाय है दीवाली चीन के लिए, अगर युवा जाग जाए तो अकेले दीवाली कम से कम 1 लाख युवाओं को कभी खत्म न होने वाला खानदानी व्यवसाय शुरू करवा सकता है… अकेली दीवाली ‘दूधो नहाओ, पूतों फलो’ को चरितार्थ कराने का दम रखती है.

ऐसे ही कई अन्य त्योहार, उपलक्ष्य और मान्यताएं हैं जो लाखों व्यवसाय और रोजगार सृजित करती हैं. इन मान्यताओं के मज़ाक उड़ाते हुए वामपंथी सोच को लादे घूम रहे शातिर लोगों की नकारात्मक सोच को ठुकराइए और देखिए कि इन मान्यताओं को भुना के चीन कैसे भारत से अरबों कमा रहा है.

उठो युवाओं, दल हित, जातिवाद से ऊपर उठ कर इन सब मान्यताओं को उपलब्धि और रोजगार सृजन में बदल डालो… चीन चले गए उद्यम को वापस भारत लाओ… अपने परिवार और पीढ़ियों का भविष्य सुनहरा बना डालो… ये आपका काम देश की सूरत बदल देगा.

इतनी जनहित, देशहित की सरकार पहले नहीं थी, आज है… योजनाओं को पढ़ो, छोटी छोटी पूंजी इन योजनाओं में लगाओ, बैंक से योजनाओं के अंतर्गत छोटे कर्ज़ लो और काम शुरू करो.

इतिहास गवाह है कि कोई व्ययसाय और औद्योगिक घराना बड़ी पूँजी से शुरू नहीं हुआ… आपकी आज की छोटी शुरुआत कल बड़े-बड़े गुल खिलाएगी… ‘उठो पार्थ गांडीव सम्भालो’.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY