वेनेजुएला के राष्ट्रपति को तानाशाह बता अमेरिका ने लगाया प्रतिबंध

वॉशिंगटन. अमेरिका ने वेनेजुएला के राष्ट्रपति निकोलस मादुरो को तानाशाह बताते हुए उन पर प्रतिबंधों की घोषणा कर दी है. अमेरिका ने वेनेजुएला में विपक्षी नेताओं पर खतरे और अंतरराष्ट्रीय समुदाय द्वारा हालिया चुनावों को अवैध घोषित करने के संदर्भ में प्रतिबंधों की घोषणा की है. ऐसा केवल चौथी बार हुआ है जब अमेरिका ने किसी देश के मौजूदा प्रमुख पर प्रतिबंध लगाया है.

प्रतिबंधों की घोषणा करते हुए अमेरिकी ट्रेज़री सचिव स्टीवन ने कहा, ‘रविवार के अवैध चुनावों से इस बात की पुष्टि हुई है कि मादुरो एक तानाशाह हैं, जो वेनेजुएला के लोगों की इच्छाओं की उपेक्षा करते हैं.’

स्टीवन ने कहा, ‘मादुरो पर प्रतिबंध लगाकर अमेरिका ने साफ किया है कि हम उनके शासन की नीतियों के खिलाफ हैं और वेनेजुएला के लोगों का समर्थन करते हैं जो अपने देश में एक पूर्ण और समृद्ध लोकतंत्र वापस चाहते हैं.’

वाइट हाउस की न्यूज कॉन्फ्रेंस में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने कहा कि ट्रंप प्रशासन ने मादुरो सरकार को वेनेजुएला के संविधान और संवैधानिक नैशनल असेंबली के अधिकारों का सम्मान करने को कहा था.

उन्होंने कहा कि मादुरो सरकार को स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने, राजनीतिक कैदियों को रिहा करने और वेनेजुएला के लोगों के सम्मान करने को कहा गया, जिसे अनसुना किया गया.

इसी बीच मादुरो ने 41.5 प्रतिशत के आधिकारिक मतदान का हवाला देते हुए रविवार को हुए चुनाव में जीत का दावा भी कर दिया है. वामपंथी नेता ने नई संविधान सभा को इस बात के लिए प्रोत्साहित किया कि वह कानूनी कार्रवाई से विपक्षी सांसदों को मिली छूट को खत्म करने के लिए अपनी व्यापक शक्तियों का इस्तेमाल करेंगे.

रविवार को हुई हिंसा में भी 14 लोग मारे गए जबकि करीब 400 लोग घायल बताए जा रहे हैं. रविवार को प्रदर्शनकारियों ने चुनाव बूथों पर हमला किया, पूरे देश में सड़कों पर नाकेबंदी की. इसके बाद सुरक्षा बलों ने प्रदर्शनकारियों पर खुले आम गोली चलाई थी.

राष्ट्रीय चुनाव परिषद ने कहा है कि अशांति और विपक्ष के बहिष्कार के बाद भी चुनाव में 80 लाख से ज्यादा मतदाताओं ने वोट डाले. मध्य कराकस में लाल कपड़े पहने हुए मादुरो ने सैकड़ों समर्थकों के बीच अपने जीत की घोषणा की है. उन्होंने कहा कि क्रांति के 18 साल के इतिहास में यह सबसे बड़ा मतदान था.

गौरतलब है कि वेनेजुएला में नया संविधान लिखने के लिए और राष्ट्रपति निकोलस मादुरो को वस्तुत: असीमित शक्तियां प्रदान करने वाला विवादित चुनाव संपन्न हुआ है. अंतरराष्ट्रीय बिरादरी ने इस चुनाव को अवैध करार दिया है.

वेनेजुएला में इस चुनाव के खिलाफ पिछले चार महीनों के दौरान हुए विरोध-प्रदर्शनों पर हुई कार्रवाई में 120 लोगों की मौत हो चुकी है. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रशासन ने इस संदर्भ में पहले ही नए प्रतिबंध लगाने की बात कही थी.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY