पनामा पेपर लीक मामले में नवाज़ शरीफ के भविष्य का फैसला आज

इस्लामाबाद. पनामा पेपर लीक मामले में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ के राजनीतिक भविष्य का फैसला आज होगा. जस्टिस आसिफ सईद खोसा की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय पीठ शुक्रवार सुबह 11.30 बजे अपना निर्णय सुनाएगी. नवाज़ और उनके परिवार पर भ्रष्टाचार और मनी लांड्रिंग जैसे संगीन आरोप हैं.

सुप्रीम कोर्ट की ओर से गुरुवार रात जारी की गई सप्लिमेंट्री कॉज लिस्ट के अनुसार पांच मेंबरों की बेंच सुबह साढ़े ग्यारह बजे इस मामले का फ़ैसला सुनाएगी. सुप्रीम कोर्ट की इस बेंच में जस्टिस एजाज़ हसन, जस्टिस एजाज़ अफ़जल, जस्टिस सईद शेख, जस्टिस आसिफ़ सईद खोसा और जस्टिस गुलज़ार अहमद शामिल हैं. इनमें जस्टिस एजाज़ हसन, जस्टिस एजाज़ अफ़जल और जस्टिस सईद शेख की एक अलग बेंच पर निर्णय प्रक्रिया की निगरानी की भी ज़िम्मेदारी है.

जस्टिस खोसा और जस्टिस गुलजार पनामा के शुरुआती निर्णय में प्रधानमंत्री नवाज़़ शरीफ़ को पहले ही अयोग्य क़रार दे चुके हैं जबकि शेष तीनों जजों ने इस मामले में आगे की जांच का आदेश दिया था. नवाज़ शरीफ से सीधे जुड़े मामले की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर संयुक्त जांच दल (जेआइटी) गठित किया गया था.

जेआइटी ने 10 जुलाई को अपनी रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को सौंपी थी. सुप्रीम कोर्ट ने 21 जुलाई को सुनवाई पूरी कर फैसला सुरक्षित रख लिया था. इससे पहले पीठ में शामिल रहे दो जजों के 11 अगस्त तक के लिए इस्लामाबाद से बाहर होने की बात कही गई थी.

विपक्षी पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ़ के अध्यक्ष इमरान ख़ान पनामा केस में याचिका दायर करने वालों में से एक हैं. इमरान ख़ान ने पिछले दिनों ही सुप्रीम कोर्ट से अपील की थी कि इस मामले का फ़ैसला जल्द से जल्द सुनाया जाए. हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि इस मामले में जल्दबाज़ी नहीं की जाएगी और सुप्रीम कोर्ट संविधान और क़ानून की रोशनी में सभी सबूतों को देखने के बाद ही कोई फ़ैसला देगी.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक जेआइटी ने अपनी रपट में शरीफ को प्रधानमंत्री पद के लिए अयोग्य ठहराने की सिफारिश की है. ऐसे में उनके भाई और पंजाब प्रांत के मुख्यमंत्री शाहबाज शरीफ के कमान संभालने के कयास भी लगाए जा रहे हैं.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY