लालू, राबड़ी और तेजस्वी पर मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप, ईडी ने दर्ज किया केस

पटना. बिहार की सत्ता से बेदखल हुए भूतपूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव और चारा घोटाले में सज़ायाफ्ता लालू यादव पर एक और मुसीबत आन पड़ी है. भ्रष्टाचार और घोटालों के आरोप झेल रहे लालू परिवार के खिलाफ अब प्रवर्तन निदेशालय ने मनी लॉन्ड्रिग के आरोप में राजद सुप्रीमो लालू यादव, उनकी पत्नी राबड़ी देवी और छोटे बेटे तेजस्वी यादव के खिलाफ केस दर्ज किया है. ये केस महागठबंधन टूटने से एक दिन पहले ही दर्ज हो गया था.

यह मामला मामला साल 2006 में रेलवे के होटल आवंटन में गड़बड़ी से जुड़ा है. उस समय लालू यादव रेल मंत्री थे. लालू यादव पर रेल मंत्री रहते हुए 2006 में रेलवे संपत्तियां कम रेट पर प्राइवेट कंपनी को लीज पर देने का आरोप था.

सीबीआई ने इस मामले में पहले से ही लालू प्रसाद यादव, उनकी पत्नी राबड़ी देवी, बिहार के भूतपूर्व उप मुख्यमंत्री और उनके बेटे तेजस्वी यादव, आईआरसीटीसी के तत्कालीन एमडी पी के गोयल, यादव के विश्वासपात्र प्रेमचंद गुप्ता की पत्नी सुजाता और अन्य के खिलाफ मामला दर्ज कर रखा है.

इस मामले में सीबीआई लालू यादव, राबड़ी देवी और तेजस्वी यादव से पूछताछ भी कर चुकी है. जिसके बाद ईडी ने सीबीआई की जांच पड़ताल और एफआईआर के आधार पर मनी लॉन्ड्रिग के तहत ये नया केस दर्ज किया है. लालू, राबड़ी और तेजस्वी के अलावा कुछ अन्य लोगों पर ही मुकदमा दर्ज किया गया है.

उल्लेखनीय है कि पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव के खिलाफ भ्रष्टाचार का केस पहले से दर्ज है. जिसके आधार पर उनके इस्तीफे मांग की जा रही थी और इसी आरोप को नितीश कुमार में बिहार में महागठबंधन की टूट का आधार बनाया.

फिलहाल नीतीश कुमार एक बार भाजपा के समर्थन से बिहार के मुख्यमंत्री बन गए हैं, वहीं दूसरी तरफ मुकदमों से संकट में फंसे लालू के परिवार को सत्ता से बेदखल कर नितीश कुमार ने जबरदस्त राजनीतिक झटका दिया है.

वहीं बिहार में महागठबंधन टूटने के बाद लालू प्रसाद यादव ने गुरुवार को कहा कि केंद्रीय जांच एजेंसियों द्वारा उनके परिवार के खिलाफ भ्रष्टाचार के संबंध में मामला दर्ज कराने के लिए मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने भारतीय जनता पार्टी के साथ मिलकर ‘साजिश रची.’

चारा घोटाला मामले में सीबीआई की अदालत में पेश होने के बाद लालू ने कहा, “नीतीश कुमार ने बिहार के लोगों को धोखा दिया है. मैं आरोप लगाता हूं कि नीतीश कुमार ने मेरे और मेरे परिवार के खिलाफ सीबीआई में मामला दर्ज कराने के लिए भाजपा के साथ गठजोड़ किया.”

नितीश कुमार और सुशील मोदी के शपथ लेने के तुरंत बाद लालू यादव ने यह टिप्पणी की. उन्होंने कहा कि उप मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने वाले सुशील मोदी को उनके परिवार के सदस्यों की छवि खराब करने के लिए अभियान चलाने के लिए कहा गया.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY