बीते 5 महीनों से नहीं छप रहे दो हज़ार के नोट

मुम्बई. कुछ मिडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक रिजर्व बैंक ने पांच महीने पहले से दो हजार के नोटों की छपाई बंद कर दी है. अब आरबीआई का ज़ोर शीघ्र ही आने वाले 200 रुपये के नोट पर है, जिसकी अन्य छोटे नोटों के साथ छपाई तेज़ी पर है.

सूत्रों के हवाले से इन मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि दो हजार रुपये के नोटों की पर्याप्त प्रिंटिंग के बाद फिलहाल इसकी छपाई रोक दी गई है. इसमें बताया गया है कि आरबीआई ने दो हजार के नोट की छपाई पांच माह पहले ही रोक दी थी और अब जोर छोटे नोटों पर है.

जानकार इसकी वजह मार्केट में 2 हजार के नोटों का फ्लो ज्यादा होना और छोटे नोटों की किल्लत को बता रहे हैं. यही वजह है कि लेनदेन के प्रचलन को और बेहतर बनाने के लिए आने वाले दिनों में 200 के नोट को लाने की तैयारी चल रही है.

दो सौ रुपए का नोट स्वतंत्रता दिवस तक बाज़ार में आ सकता है. होशंगाबाद स्थित गवर्नमेंट प्रेस यूनिट में सैंपल नोट की क्वालिटी और सिक्योरिटी फीचर चेक होने के बाद उसे कर्नाटक स्थित मैसूर और पश्चिम बंगाल स्थित सालबोनी प्रिंटिंग प्रेस में छपाई के लिए भेज दिया है.

जानकारों के अनुसार आरबीआई के मैसूर प्रेस में छपाई शुरू कर दी गई है, जो तेज़ी से जारी है. अगले महीने करीब एक अरब रुपये मूल्य के 200 रूपए के नोट बाजार में आने की उम्मीद है.

जानकारों के मुताबिक, दो हजार रुपये के 7.4 लाख करोड़ रुपये मूल्य के 3.7 अरब नोट प्रिंट हो चुके हैं. यह 8 नवंबर को नोटबंदी के बाद बंद एक हजार रुपये के 6.3 अरब नोटों के मूल्यों से अधिक है.

विशेषज्ञों के अनुसार, नोटबंदी के शुरुआती दौर में तेजी के बाद आरबीआई अब दो हजार रुपये के नोटों की आपूर्ति धीमी रखना चाहती है. बैंकों और एटीएम में भी अब नकदी का संकट नहीं है.

फिलहाल छापे जा रहे नोटों में 90 फीसदी 500 रुपये के नोट हैं. अब तक 500 के 14 अरब नोट छापे जा चुके हैं. यह आठ नवंबर को बंद हुए 500 रुपये के 15.7 अरब नोटों के काफी करीब है.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY