लालू के लाल से तंग नितीश ने इस्तीफा दिया, भंग करेंगे मंत्रिमंडल!

पटना. बुधवार शाम जेडीयू विधायकों, सांसदों और अन्य नेताओं की बैठक के बाद मुख्यमंत्री नितीश कुमार राज्यपाल से मिलने गए. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ नितीश कुमार ने मुख्यमंत्री पद से अपना इस्तीफा राज्यपाल को सौंप दिया है. इसके साथ ही यह संभावना भी जताई जा रही है कि नितीश कुमार मंत्रिमंडल भी भंग कर सकते हैं.

उल्लेखनीय है कि जेडीयू की बैठक से पहले ही आरेजडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव, उनकी पत्नी और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी समेत उनके बेटे और उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा था कि नितीश ने न तो उनसे इस्तीफा मांगा है और न ही भ्रष्टाचार के आरोपों पर कोई सफाई मांगी है.

गौरतलब है कि नितीश कुमार ने ये पार्टी विधायकों और नेताओं की ये बैठक 28 जुलाई को बुलाई थी. मगर, आरजेडी का रुख देखते हुए नितीश ने बुधवार शाम को ही बैठक बुला ली.

इससे पहले 11 जुलाई को भी नितीश कुमार के सरकारी आवास पर जेडीयू की बैठक बुलाई गई थी. उस बैठक में इस बात की मांग उठी थी कि तेजस्वी यादव, जिनके ऊपर भ्रष्टाचार के आरोप लग रहे हैं, उन्हें अपने पद से इस्तीफा देना चाहिए.

जेडीयू के वरिष्ठ नेता और सांसद के.सी त्यागी ने कहा कि नितीश कुमार की नीति भ्रष्टाचार को लेकर बिल्कुल साफ है. अतीत में भी नितीश कुमार ने भ्रष्टाचार के मामलों में इस्तीफे लेने का काम किया है.

दरअसल लालू प्रसाद ने आज बैठक में एक बार फिर से स्पष्ट करते हुए कहा कि तेजस्वी यादव इस्तीफा नहीं देंगे. लालू की इस दो टूक के बाद एक अणे मार्ग पर आयोजित जदयू विधायक दल की बैठक में नितीश कुमार ने राज्यपाल केसरी नाथ त्रिपाठी को अपना इस्तीफा सौंप दिया.

मुख्यमंत्री नितीश कुमार के आवास पर शाम करीब छह बजे शुरू हुई इस बैठक में पार्टी के सभी विधायकों मौजूद हुए. बैठक में नितीश कुमार की आेर से किसी बड़े फैसले की उम्मीद जतायी जा रही थी.

इससे पहले बीते दिनों जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष और मुख्यमंत्री नितीश कुमार दिल्ली में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात कर चुके थे. समझा जाता है कि इस दौरान नीतीश कुमार ने कांग्रेस के दोनों प्रमुख नेताओं से बिहार के सियासी हालात पर चर्चा की.

दिल्ली से मंगलवार को वापस पटना पहुंचने के साथ ही तेजस्वी के मुद्दे पर जदयू की ओर से किसी फैसले की चर्चा को लेकर सूबे में सियासी पारा गरम था. इसी कड़ी में जदयू विधायक दल की बैठक के बाद नितीश के इस्तीफे ने भाजपा को रोकने के लिए बने महागठबंधन का भी पटाक्षेप कर दिया.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY