ये योग भी एक तपस्या है : अर्द्धचंद्रासन

अर्द्धचंद्रासन आसन कमर को लचीला बनाकर उसके बगल में जमी चर्बी को कम करता है. इस आसन को करते समय शरीर की स्थिति आधे चंद्रमा के समान होती है, इसलिए इसे अर्द्धचंद्रासन कहा जाता है. यह आसन आंतरिक अंगों की मजबूती और कमर पर जमी चर्बी को कम करने में काफी सहायक है.

लाभ

इस आसन से घुटने, किडनी, छोटी आंत, लिवर, छाती, लंग्स और गर्दन तक का भाग एक साथ प्रभावित होता है. इससे इन सभी अंगों का व्यायाम होकर शरीर निरोगी बनता है.

श्वांस, उदर, पिंडलियों, पैरों, कंधे, कुहनियों और रीढ़ संबंधी रोगों में भी इस आसन से लाभ मिलता है.

इस आसन से शरीर का तनाव भी दूर होता है और आंखों की रोशनी बढ़ती है. मांसपेशियों में यदि बार- बार किसी कारण से खिंचाव होता रहता है, तो उससे छुटकारा मिल जाता है. युवाओं के लिए यह आसन बहुत फायदेमंद होता है.

आसन कैसे करें :

* सबसे पहले दोनों पैरों की एड़ी-पंजों को मिलाकर खड़े हो जाएं. दोनों हाथ कमर से सटे हुए गर्दन सीधी और नजरें सामने रखें.

* अब दोनों पैरों को लगभग एक से डेढ़ फिट दूर रखें. रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें. इसके बाद दाएं हाथ को ऊपर उठाते हुए कंधे के समानांतर लाएं फिर हथेली को आसमान की ओर करें. इस हाथ को ऊपर उठाते हुए कान से सटाएं. इस दौरान बायां हाथ आपकी कमर से ही सटा रहना चाहिए.

* अब दाएं हाथ को ऊपर सीधा कान और सिर से सटा हुआ रखते हुए ही कमर बाईं ओर झुकाते जाएं. इस दौरान आपका बायां हाथ स्वत: ही नीचे खिसकता जाएगा. बाएं हाथ की हथेली को पैर से अलग न करें.

* जहां तक हो सके बाईं ओर झुकें फिर इस अर्द्धचंद्र की स्थिति में करीब 30- 40 सेकंड रहें. वापस आने के लिए धीरे-धीरे फिर से सीधे खड़े हो जाएं. फिर कान और सिर से सटे हुए हाथ को पुन: कंधे के समानांतर ले आएं. अब हथेली को जमीन की ओर करते हुए इस हाथ को कमर से सटा लें.

* यह तो हुआ दाएं हाथ से बाईं ओर झुककर किए गए अर्द्धचंद्रासन का पहला चरण. अब इसी आसन को बाएं हाथ से दाईं ओर झुकते हुए करें. इसके बाद पुन: विश्राम अवस्था में आ जाएं. यह आसन दिन में 4-5 बार करें.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY