नहीं होगा तेजस्वी का इस्तीफा, लालू की नितीश को दो टूक

पटना. बिहार में भाजपा को सत्ता में आने से रोकने के नाम पर बने महागठबंधन में फिलहाल कुछ भी ठीक नहीं चल रहा है. गठबंधन के प्रमुख घटक राजद के सुप्रीमो और चारा घोटाले में सज़ायाफ्ता लालू यादव ने अपने पुत्र और उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के इस्तीफे से साफ़ इनकार कर दिया है.

इसके साथ ही अपने शासनकाल में जंगलराज के पर्याय बने लालू ने गठबंधन में जूनियर पार्टनर जदयू की तरफ से अपनी संपत्ति का ब्यौरा सार्वजनिक करने की मांग भी खारिज कर दी है. लालू के इस बयान के बाद राजद-जदयू के बीच दरार और बढ़नी तय है.

लालू ने कहा है, “जो भी हम पर या बच्चों पर आरोप लगे हैं. इसकी सफाई हम लोग बहुत पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस कर दे चुके हैं. हर एक चीज की सफाई दी है. ईडी या इनकम टैक्स हमें बुलाएगा तो जवाब हम वहां देंगे.”

उन्होंने कहा, “केवल एफआईआर दर्ज हो जाने से कोई इस्तीफा नहीं देता. राष्ट्रीय जनता दल विधानमंडल दल ने फैसला कर लिया है कि तेजस्वी यादव को इस्तीफा देने की जरूरत नहीं है.”

गौरतलब है कि राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद के छोटे बेटे तेजस्वी बिहार के डिप्टी सीएम हैं. सीबीआई ने लालू के साथ-साथ तेजस्वी और परिवार के सदस्यों के खिलाफ भ्रष्टाचार का वर्षो पुराना मामला अब दर्ज किया है. सीबीआई ने सात जुलाई को पटना सहित देशभर के 12 स्थानों पर छापेमारी की थी. इसके साथ ही लालू की बेटी मीसा भारती और दामाद शैलेष पर भी ईडी ने कार्रवाई की थी.

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री नितीश कुमार की पार्टी जदयू बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव पर लगे आरोपों पर जनता के सामने सफाई की मांग पहले से ही कर ही रही थी. इसके साथ ही अब जदयू नेताओं ने लालू प्रसाद यादव से संपत्ति का ब्यौरा सार्वजनिक करने की मांग रख दी है.

इससे बौखलाए लालू ने जदयू नेताओं को जवाब देते हुए कहा, “लालू यादव की चल अचल संपत्ति की जानकारी सार्वजनिक है सब सार्वजनिक है. कोई भी ऑनलाइन निकालकर देख सकता है नीतीश जी के यहां भी है.” उन्होंने कहा, “राजद की ओर से महागठबंधन पर कोई आंच नहीं आने दी जाएगी और जिसको जो करना है, करे.”

इसके अलावा लालू यादव ने गठबंधन बचाने के लिए कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी की किसी भी मध्यस्थता से इनकार करते हुए इस बारे में सोनिया से बातचीत के दावे को खारिज कर दिया. लालू ने कहा, “हमसे सोनिया गांधी की इस मुद्दे पर कोई बात नहीं हुई है. इसका मैं पूरी तरह से पुरजोर खंडन करता हूं.” कहा जा रहा था कि सोनिया गांधी ने महागठबंधन को बचाने के लिए लालू और नीतीश से फोन पर बातचीत की थी.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY