वडनगर के खुले भाग्य, होगा काया कल्प

जब से नरेन्द्र मोदी जी भारत के प्रधान मंत्री बने हैं, गुजरात का कस्बा “वडनगर” पूरी दुनिया की नजरों में आ गया है. यहाँ के छोटे से स्टेशन पर एक सड़े हुए टीन शेड की बनी हुई गुमटी आज भी खड़ी है. इस गुमटी पर मोदीजी के पिताजी चाय बनाया करते थे, और किशोर नरेन्द्र लोहे के तारों के फ्रेम से बना छ: कांच के गिलास रखने का हैंगर लेकर एक हाथ में लटकाकर तथा दूसरे हाथ में गरम चाय की केटली लेकर प्लेट फार्म पर दौड़ लगाया करते थे. पेसेन्जर गाड़ी की एक खिड़की से दूसरी खिड़की पर जाकर जोर से चिल्लाते थे ” गरमा गरम चाय “. यात्रियों के पुकारने पर झटपट गिलास में चाय भर कर देते थे दूसरे हाथ से एक एक दो दो रुपयों के नोट और चिल्लर सम्भालकर हाफ पेन्ट की जेब में रखते जाते थे. केटली में चाय खत्म होने पर नंगे पैर ही दौड़कर अपने बापू के पास जाते थे. झूठे गिलासों को आधी पानी से भरी बाल्टी में पटक कर दूसरे धुले गिलास हैंगर में लेकर अपने बापू से केटली में चाय भराकर तेजी से दौड़ते हुए भागते थे, फिर वही आवाज” चाय गरमागरम चाय “.

बचपन के उस ऐतिहासिक स्थल को एक पवित्र आकर्षक पर्यटन का स्थान में बदलने की योजना पर अब अमल होने जा रहा है. इस हेतु करीब एक अरब दस करोड़ रुपये खर्च किये जाएंगे.

मात्र 25 हज़ार की आबादी के कस्बे का रंग रूप बदला जा रहा है. शर्मिष्टा झील की कायाकल्प हो रही है. उसमें फव्वारे रंग बिरंगी रोशनी और गुजराती कलाकृति से सजाने की योजना बन गई है. बस्ती के बीच स्थित घण्टाघर की शक्ल ही बदल दी जावेगी.

कस्बे के पास स्थित उस स्थान को इतना सुन्दर और आकर्षक बनाया जावेगा, जहां गौतम बुद्ध के समकालीन सभ्यता के अवशेष खुदाई में मिले हैं. इस जगह को अति सुन्दर और वर्ड क्लास का बना दिया जाएगा, जिससे कि यह पाकिस्तान स्थित हड़प्पा और मोहनजोदड़ो से कई गुना अधिक आकर्षक लगे.

खबर कुछ यूं है –

Gujrat government authorities want the stall where Indian Prime Minister Narendra Modi once sold tea with his father to become a global tourist magnet.

Modi ji often says during his election campaign of his humble roots as a “chai wallah’s son” and the authorities plan a $15 million project to spruce up those roots in his hometown of Vadnagar.

Now the stall is rusting hulk in a small town railway station of India.

“Looking into the historic importance of the stall, we have decided to modernise it,” Indian Culture Minister Mahesh Sharma said as he announced the project in the town in the western state of Gujarat.

“We want to restore the tea stall and develop it as a tourist spot. This is being done to put Vadnagar on the world tourism map,” Sharma said in his comments on Tuesday the July 4,2017.

The tin sheet stall is currently unused and unloved on a Vadnagar railway station platform. Most of it is covered with rust.

One of six children, Modi, now 66, is said to have spent much of his childhood helping his father Damodardas Mulchand Modi who died in 1989. As well as using his “chai wallah’s son” roots during the 2014 election campaign, Modi also held “discussions over tea” at campaign stops to take questions from the public.

District collector Alok Pandey said there are seven or eight sites in Vadnagar, a town of 25,000 people, which will be developed under the tourism plan. He said the culture and tourism ministry had given $15 million “to develop Vadnagar as a tourist attraction”.

“The work has already begun and most of it will be over by the end of September,” Pandey told without saying what would happen to the stall.

He conceded that the railway station was in a “very dilapidated condition.” Vadnagar’s Sarmishta Lake, a clock tower, Buddhist excavation sites and the railway station will be renovated to keep tourists interested, he said.

A makeshift tea stall on another platform will also get a painting and cleaning, the official proudly said.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY