बहुत निर्मम होता है जंगल

बहुत साल पहले मैंने National Geographic channel पर एक फ़िल्म देखी थी. एक जीव वैज्ञानिक दंपत्ति को जंगल में एक अनाथ मादा टाइगर मिल गयी. उसे जंगल में यूँ छोड़ देने से वो कुछ घंटों में ही मर जाती. लिहाजा वो दोनों उसे घर ले आये. और एक सामान्य पालतू की तरह वो उनके घर में पलने लगी. नाम रखा Mia.

कुछ बड़ी हुई तो वैज्ञानिक दंपति को चिंता हुई. हम कितने दिन पालेंगे इसे? आखिर एक न एक दिन तो इसे जंगल या चिड़ियाघर में छोड़ना ही पडेगा.

सो वो दोनों उसे जंगल में अकेले अपने दम पर ज़िंदा रहने के गुर सिखाने लगे. अपने घर के पीछे विशाल बगीचे में जो कि एक छोटे मोटे जंगल सा ही था, उसे पालने लगे. अस्तित्व रक्षण (survival skills) और शिकार करना सिखाने लगे.

धीरे-धीरे 2 साल बीत गए. अब Mia जवान हो चली थी. वो उसे धीरे-धीरे असली जंगल से परिचित कराने लगे. वहाँ ले जा के उसे असली जानवरों और प्रकृति की वास्तविक और निर्मम परिस्थितियों से परिचित कराने लगे.

दूसरे बाघों से भी उसकी मुलाक़ात करवाई. उनके साथ कैसे व्यवहार करना है ये सिखाने लगे. ट्रेनिंग का ये सिलसिला एक साल और चला.

अब उन्हें लगा कि उनकी Mia अब जंगल में छोड़ने लायक हो गयी है. उन्हें ये विश्वास था कि वो अकेले survive कर लेगी. और एक दिन उन्होंने उसके गले में एक collar transmitter पहना के उसे जंगल में छोड़ दिया.

हर दूसरे-तीसरे दिन वो दोनों आ के उसका हालचाल ले लेते थे. फिर एक दिन वो उन्हें नहीं मिली. न उसके transmitter के signals मिल रहे थे. वो उसे सारा दिन ढूंढते रहे.

शाम को उन्हें हलके से signals मिले… फिर वो टूटा हुआ collar… Mia का कहीं अता पता न चला. उसकी dead body तक न मिले. बचे खुचे अवशेष तक न मिले.

मेरे एक मित्र हैं. उनकी बेटी इस साल BA में गयी है. जब वो 12th में पढ़ती थी तो उसे स्कूल पहुंचाने एक आदमी जाता था. शाम को एक लेने जाता. एक दिन मैं उनके साथ बैठा था. मैंने उनसे कहा, मोदी जी तक मेरी पहुँच है. कहिये तो बात करूं.

क्या बात?

आपकी बिटिया को SPG दिलवा दें? या NSG? अरे कम से कम Z plus security तो बनती ही है…

लगे सफाई देने.

एक दिन उनका 15 साल का बेटा अपनी कोचिंग से रात 9 बजे चला. फोन उसका बंद था. घर आने में उसे कोई 15 मिनिट की देर हो गयी. श्रीमान जी लगे छटपटाने… मुझे यूँ लगा कि मैंने न सम्हाला तो इनका हार्ट फेल हो जाएगा.

अरे काहे परेशान हो? आ जायेगा.

वो कहाँ मानने वाले थे.

मैंने पूछा कहीं सीरिया इराक गया है? अबे, न तुम्हारा लड़का यज़ीदी है न यहाँ सड़कों पे ISIS घूम रही है.

खैर इस से पहले कि वो हदस के मर जाते… लड़का आ गया.

मैंने उन्हें समझाया… क्या बनाना चाहते हो अपने बच्चों को? कितने दिन उन्हें पालने में रखोगे. क्यों इन्हें छुइ मुई बना रखा है.

My friend… there is a jungle out there. Only the fittest will survive… बहुत भयानक जंगल है वहाँ… जहाँ वही ज़िंदा रहेगा जो दूसरों का निवाला बनने से बच जाएगा.

अपने बच्चों को Mia मत बनाइये. उन्हें इस जंगल में ज़िंदा रहने के लिए ज़रूरी survival skills सीखने दीजिये. जंगल में ज़िंदा बचे रहने के लिए skills जंगल में ही सीखने को मिलेंगी. आपके बगीचे में नहीं.

यदि आपका बच्चा जंगल के लायक नहीं बना है तो फिर उसे किसी चिड़ियाघर में छोड़िये. उसके लिए चिड़ियाघर बनाइये. वरना Mia बनते देर न लगेगी… क्योंकि जंगल बहुत निर्मम होता है.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY