पढ़ना तो यही है : रश्मिरथी

यह ऐसी किताब है, जिसे मैं घोर अवसाद के क्षणों में पढ़ता हूं. मैं इसको इसलिए भी पढ़ता हूं कि इसके रचयिता राष्ट्रकवि को भी भूमिहारों ने अपना बना लिया है…. ठप्पा लगा कर, तो सोचता हूं कि हिंदू कौम अभी कितनी और दूर है मौत से…

….रश्मिरथी काव्य की एकमात्र किताब है, जिसे मैं कई बार पढ़ सकता हूं. यह रामधारी सिंह दिनकर की सर्वश्रेष्ठ किताब है. ज़रा इसे देखिए…

‘पूछो मेरी जाति, शक्ति हो तो, मेरे भुजबल से’
रवि-समान दीपित ललाट से और कवच-कुण्डल से,
पढ़ो उसे जो झलक रहा है मुझमें तेज-प़काश,
मेरे रोम-रोम में अंकित है मेरा इतिहास.

….हालांकि, दिनकर ने जवाहर लाल नेहरू के चरणों में दंडवत कर लिया था, तो वह मुझे कभी पसंद नहीं आए, लेकिन उनकी यह कृति अनुपम है. असंभव, अद्वितीय…..

‘मूल जानना बड़ा कठिन है नदियों का, वीरों का,
धनुष छोड़ कर और गोत्र क्या होता रणधीरों का?
पाते हैं सम्मान तपोबल से भूतल पर शूर,
‘जाति-जाति’ का शोर मचाते केवल कायर क्रूर.

…..महाभारत के सर्वथा विस्मृत नायक को उसका गौरव दिलाने वाले दिनकर कैसे नेहरू के चरणों में गिर गए, यह मेरे लिए हमेशा आश्चर्य का बायस रहा, लेकिन फिर सोचा कि जिस जाति ने श्रीकृष्ण सिंह तक को भूमिहार बना दिया, उस जाति के सामने दिनकर की क्या औकात…

…बहरहाल, पुस्तक कई प्रकाशनों से उपलब्ध है… नेट पर भी होगी… पर इसे पढ़िए जरूर. खासकर सर्ग 2 और सर्ग 4….

सर्ग 2

अलग नगर के कोलाहल से, अलग पुरी-पुरजन से,

कठिन साधना में उद्योगी लगा हुआ तन-मन से।

निज समाधि में निरत, सदा निज कर्मठता में चूर,

वन्यकुसुम-सा खिला कर्ण, जग की आँखों से दूर।

नहीं फूलते कुसुम मात्र राजाओं के उपवन में,

अमित बार खिलते वे पुर से दूर कुञ्ज-कानन में।

समझे कौन रहस्य ? प्रकृति का बड़ा अनोखा हाल,

गुदड़ी में रखती चुन-चुन कर बड़े कीमती लाल।

जलद-पटल में छिपा, किन्तु रवि कब तक रह सकता है?

युग की अवहेलना शूरमा कब तक सह सकता है?

पाकर समय एक दिन आखिर उठी जवानी जाग,

फूट पड़ी सबके समक्ष पौरुष की पहली आग।

रंग-भूमि में अर्जुन था जब समाँ अनोखा बाँधे,

बढ़ा भीड़-भीतर से सहसा कर्ण शरासन साधे।

कहता हुआ, ‘तालियों से क्या रहा गर्व में फूल?

अर्जुन! तेरा सुयश अभी क्षण में होता है धूल।’

‘तूने जो-जो किया, उसे मैं भी दिखला सकता हूँ,

चाहे तो कुछ नयी कलाएँ भी सिखला सकता हूँ।

आँख खोल कर देख, कर्ण के हाथों का व्यापार,

फूले सस्ता सुयश प्राप्त कर, उस नर को धिक्कार।’

इस प्रकार कह लगा दिखाने कर्ण कलाएँ रण की,

सभा स्तब्ध रह गयी, गयी रह आँख टँगी जन-जन की।

मन्त्र-मुग्ध-सा मौन चतुर्दिक् जन का पारावार,

गूँज रही थी मात्र कर्ण की धन्वा की टंकार।

सर्ग – 4

‘पूछो मेरी जाति , शक्ति हो तो, मेरे भुजबल से’

रवि-समान दीपित ललाट से और कवच-कुण्डल से,

पढ़ो उसे जो झलक रहा है मुझमें तेज-प़काश,

मेरे रोम-रोम में अंकित है मेरा इतिहास।

‘अर्जुन बङ़ा वीर क्षत्रिय है, तो आगे वह आवे,

क्षत्रियत्व का तेज जरा मुझको भी तो दिखलावे।

अभी छीन इस राजपुत्र के कर से तीर-कमान,

अपनी महाजाति की दूँगा मैं तुमको पहचान।’

कृपाचार्य ने कहा ‘ वृथा तुम क्रुद्ध हुए जाते हो,

साधारण-सी बात, उसे भी समझ नहीं पाते हो।

राजपुत्र से लड़े बिना होता हो अगर अकाज,

अर्जित करना तुम्हें चाहिये पहले कोई राज।’

कर्ण हतप्रभ हुआ तनिक, मन-ही-मन कुछ भरमाया,

सह न सका अन्याय , सुयोधन बढ़कर आगे आया।

बोला-‘ बड़ा पाप है करना, इस प्रकार, अपमान,

उस नर का जो दीप रहा हो सचमुच, सूर्य समान।

‘मूल जानना बड़ा कठिन है नदियों का, वीरों का,

धनुष छोड़ कर और गोत्र क्या होता रणधीरों का?

पाते हैं सम्मान तपोबल से भूतल पर शूर,

‘जाति-जाति’ का शोर मचाते केवल कायर क्रूर।

‘किसने देखा नहीं, कर्ण जब निकल भीड़ से आया,

अनायास आतंक एक सम्पूर्ण सभा पर छाया।

कर्ण भले ही सूत्रोपुत्र हो, अथवा श्वपच, चमार,

मलिन, मगर, इसके आगे हैं सारे राजकुमार।

साथ ही मनोज बाजपयी की जादुई आवाज़ में एक बार अवश्य सुनिए रश्मिरथी

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY