फिर मुश्किल में केजरीवाल पार्टी, दो करोड़ का चंदा मामले में ED ने दर्ज किया केस

नई दिल्ली. अलग किस्म की राजनीति का दावा करने वाले अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी (AAP) एक बार फिर मुश्किल में है. प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने उन चार कंपनियों के खिलाफ केस दर्ज किया है जिनसे AAP को कुल दो करोड़ रुपये का चंदा मिला है. ईडी को शक है कि ये फर्जी कंपनियां हैं जिन्हें काले धन को सफेद करने के लिए बनाया गया था.

प्रवर्तन निदेशालय ने इस मामले में मनी लॉन्ड्रिंग ऐक्ट के तहत केस दर्ज किया है. इससे पहले पिछले महीने इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की तरफ से भी AAP को झटका लगा था. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने कहा था कि ये रुपये चंदा नहीं हैं बल्कि AAP की आमदनी हैं.

दरअसल 2015 में आम आदमी पार्टी को 50-50 लाख रुपये के 4 ड्राफ्ट के जरिए 2 करोड़ रुपये मिले थे. पार्टी की दलील थी कि यह राशि उसे बतौर चंदा मिली थी.

वहीं ‘अवाम’ नाम के एक एनजीओ ने फरवरी 2015 में आरोप लगाया था कि AAP ने एक ही शख्स के नाम से रजिस्टर्ड 4 फर्जी कंपनियों के जरिए 50-50 लाख रुपये लेकर चंदे लिए थे और इस राशि को चंदा बताया था.

हाल के दिनों में दिल्ली सरकार के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा ने भी आम आदमी पार्टी पर यही आरोप लगाए थे. उन्होंने आरोप लगाया था कि चंदे के आड़ में आम आदमी पार्टी ने काले धन को सफेद किया है.

मिश्रा के आरोपों के बाद दिल्ली के रहने वाले मुकेश शर्मा नाम के एक शख्स सामने आए थे और दावा किया था कि AAP को जिन कंपनियों से चंदा दिया गया, वे फर्जी नहीं हैं. मुकेश ने दावा किया कि वह उन कंपनियों के डायरेक्टर थे.

इसके बाद कपिल मिश्रा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर दावा किया था कि मुकेश को आम आदमी पार्टी ने अपने बचाव के लिए आगे लाया है. मिश्रा ने कुछ कागजातों के हवाले से दावा किया कि जब आम आदमी पार्टी के चंदे दिए गए तब मुकेश उन कंपनियों से जुड़े हुए नहीं थे.

ईडी ने चारों कंपनियों के डायरेक्टरों के खिलाफ भी मामला दर्ज कर लिया है. ईडी को शक है कि ये कंपनियां काले धन को सफेद करने के गोरखधंधे में लगी हुई थीं. माना जा रहा है कि इन कंपनियों की मदद से 50 करोड़ के काले धन को सफेद किया गया.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY