अगर हारे, तो कोई स्पष्टीकरण देने आप जीवित ही न होंगे

90 के दशक में उत्तरप्रदेश समेत 5 राज्यों में सत्ता में आने के बावजूद जब नरसिम्हा राव ने बाबरी विध्वंस के बाद भाजपा की पांचों सरकारों को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लगा दिया तो उनमें से किसी भी राज्य में भाजपा वापस सत्ता में नही आई. 1999 में बेशक अटल जी के नेतृत्व में केंद्र में सरकार बनी पर 2004 में फिर हार गए.

1990 से लेकर 2017 तक लगातार मैंने उत्तरप्रदेश की राजनीति को बड़े गौर से देखा जांचा परखा. हर चुनाव में बेबस भाजपा को हारते देखा और इधर मुलायम-मायावती को तो उधर लालू जादो को जीतते देखा. हर चुनाव के बाद मुझे भाजपा की दुर्दशा का एकमात्र कारण जो समझ आया वो ये कि भाजपा कभी जातीय राजनीति में सपा-बसपा और उधर लालू का मुकाबला नहीं कर पाई.

भाजपा हिंदुत्व और राष्ट्रवाद के मुद्दे पकड़ कर लटकी रही और जातीय राजनीति में सपा बसपा और लालू से हारती रही.

2014 में पहली बार भाजपा ने राजनीति में जातीय समीकरण साधे. पर 2014 की जीत को सिर्फ और सिर्फ मोदी लहर की जीत कह कर जातीय समीकरणों को नज़रअंदाज़ कर दिया गया.

इसके बाद एक के बाद एक जो विधानसभा चुनाव भाजपा ने जीते उन्हें भी मोदी लहर का विस्तार ही माना गया. पर वही मोदी लहर जब बिहार में आ के थम गई तो Poll Managers को जातीय समीकरणों की सुध आयी.

मोदी – अमित शाह का असली चुनावी मैनेजमेंट उत्तरप्रदेश के 2017 के विधानसभा चुनाव में दिखा जहां इन्होंने शानदार जातीय समीकरण सेट किये और सपा-बसपा का सूपड़ा साफ कर दिया.

इसकी अलावा एक और राज्य जहां जातीय समीकरण साधे जा रहे हैं वो है हरियाणा.

राष्ट्रपति पद के लिए दलित नेता रामनाथ कोविद को मनोनीत करने पर लोग आदर्शवाद बघार रहे हैं, नैतिकता की दुहाई दे रहे हैं, राष्ट्रवाद का ज्ञान बांट रहे हैं.

राजनीति युद्ध हो गयी है डार्लिंग… And you know… एवरीथिंग इज़ फेयर इन लव एंड वार… प्रेम और युद्ध मे सब जायज़ है… 2019 में युद्ध होगा… और युद्ध मे आपको जीतना और सिर्फ जीतना होता है…

मोदी अगर 2019 हारे तो वो मोदी नहीं पूरे हिन्दू समाज की शोक सभा होगी… इसलिए आदर्शवाद और नैतिकता का ज्ञान बघारना बंद कीजिए.

एवरीथिंग इज़ फेयर इन लव एंड वॉर… और इस वॉर में अगर आप जीते तो आपको कोई स्पष्टीकरण देना नहीं होगा और अगर हारे तो आप कोई स्पष्टीकरण देने को जीवित ही न होंगे… कैसे भी जीतो… 2019 जीतो.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY