निष्काम कर्म और प्रयास : किस्मत और सफलता असफलता के बीच का पुल

केवल 1 vacancy थी, All over India only 1 vacancy for General candidate.. अर्थात अनारक्षित वर्ग के लिए.. Canara bank में Information Technology Officer अर्थात IT- Officer के पद के लिए.. 1 vacancy देखकर ही सोच लिया था कि नहीं होना है इसमें तो.. पर..

बेरोजगारी के दिनों का धर्म होता है हर form भरना, हर vacancy के लिए apply करना.. और हमने अपना धर्म निभाया, कर्म किया.. फल की चिंता बिना ही, क्योंकि फल या result हमारे हाथों में था ही नहीं.. बड़ी शांत सी स्थिति थी, मैं स्थितप्रज्ञ सा हो गया था.. written exam हुआ, multiple choice questions के साथ साथ कुछ प्रश्न लिखने वाले भी थे..

Exam दिया और भूल गया.. कुछ महीनों बाद result आया, मैंने फिर से बस कर्म किया, रिज़ल्ट देखने का, किसी success or failure के भाव से अलग होकर.. result देखा.. 1 vacancy के लिए सम्पूर्ण भारत से कुल जमा 10 लोग exam clear कर पाए थे.. हमने निस्पृह भाव से search box में अपना roll नंबर डाला.. pdf file में कहीं पर कुछ नीला सा highlight हुआ.. वो मेरा roll no और नाम था.. मैं exam clear कर चुका था..

उत्साह हुआ पर फिर से फल या final result की चिंता नहीं की, Bangalore बुलाया गया था interview देने.. पास हुए 10 में से 6 लोग पहुंचे थे, देखा और बातचीत की तो पता चला सारे के सारे बहुत अनुभवी हैं, कहीं न कहीं नौकरी कर रहे हैं पहले से.. मैं sure था कि मेरा नंबर तो गया.. interview ठीक हुआ..

Final result कुछ महीनों बाद आया.. मैं पास नहीं कर पाया था.. फिर भी तनिक भी मलाल नहीं हुआ, क्योंकि कुछ अपेक्षा ही नहीं की थी, बेरोजगारी के दिनों का धर्म निभाते हुए “निष्काम भा” से अपना कर्म किया था..

Canara बैंक का result देख रहा था, मैं finally select नहीं हो पाया था, laptop बंद करने ही वाला था कि एक और result आने की सूचना मिली, Indian Overseas Bank का.. उसी निष्काम भाव से वो pdf file भी open की, सर्च box में अपना नाम डाला.. मेरा नाम और roll no था.. मैं iob में finally selected candidates की list में था.. बेरोजगारी ख़त्म हो चुकी थी उस क्षण.. निष्काम भाव से फल की चिंता न करते हुए कर्म किया, बहुत धैर्य रखा.

एक ही दिन निष्काम कर्म के दोनों पक्ष दिख गये, दोनों के result में मेरा वश नहीं था बस कर्म था, एक में असफल हुआ, और दूसरे में सफल.. निष्काम भाव ने असफलता का दुःख न होने दिया, पर सफलता का सुख जरूर महसूस कराया.. ये इसका plus point है..

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY