पश्चिम रेलवे की झोनल बैठक : रतलाम मंडल की कई अहम समस्याओं के लिए सुझाए उपाय

मन्दसौर. पश्चिम रेलवे मुम्बई के झोनल सलाहकार सदस्य दिलीप गुप्ता ने गत् 16 जून 2017 की बैठक में रतलाम मंडल की करीब दो दर्जन समस्याओं को उठाया एवं शीघ्रता से अमल करने की मांग की.

उक्त जानकारी देते हुए पश्चिम रेलवे झोनल सदस्य दिलीप गुप्ता ने बताया कि बैठक की अध्यक्षता पश्चिम रेलवे मुख्य महाप्रबंधक श्री अनिल कुमार गुप्ता ने की, मुख्य रूप से सचिव तथा डीजीएम श्री परिक्षित मोहनपुरिया, पश्चिम रेलवे के अधिकारीगण, जीआरपी, आरपीएफ एवं समस्त प्रदेशों के आला अधिकारी तथा कमेटी के सदस्यगण उपस्थित थे. इस अवसर पर सर्वानमुति से गुजरात के दिनेश पटेल को नेशनल सलाहकार समिति हेतु नामित किया गया.

श्री गुप्ता ने विश्व प्रसिद्ध अष्टमुखी महादेव पशुपतिनाथजी के नाम से श्री पशुपतिनाथ एक्सप्रेस के नाम से यात्री गाड़ी चलाने तथा मन्दसौर स्टेशन को आदर्श स्टेशन के साथ-साथ स्टेशन पर्यटक मंत्रालय द्वारा थिमेटीक सर्किट के तहत् विकसित हेतु पर्यटक सूची में मन्दसौर का नाम शामिल करने का पूरजोर समर्थन किया. पश्चिम रेलवे द्वारा प्रस्ताव को रेलवे बोर्ड हेतु आश्वस्त किया गया.

श्री गुप्ता ने स्टेशनों पर खानपान के स्टॉलों तथा रेलवे में बिक्री सामग्री के निर्धारित मूल्य से अधिक राशि वसूली तथा घटिया सामग्री बेचने पर तुरंत रोक लगाने की मांग की, जिस पर पश्चिम रेलवे द्वारा कड़ी कार्यवाही हेतु आश्वस्त किया गया.

इस अवसर पर मुख्य महाप्रबंधक श्री अनिलकुमार गुप्ता को ज्ञापन भी प्रस्तुत किये गये है जिसकी मांगे निम्नानुसार है-

1. रतलाम जक्शन जो कि भारत वर्ष का महत्वपूर्ण स्टेशन है जिसकी राजस्व आय भी अन्य  डिविजन की तुलना में अधिक है उसके बाद भी एक दर्जन से अधिक गाड़ियों का यहां स्टॉपेज नही है मात्र दो मिनीट के स्टापेज से पूरे मालवा का जुड़ाव भारत से हो सकता –

(1) अमृतसर-कोचुवेली एक्सप्रेस, चंडीगढ कोचुवेली एक्सप्रेस, देहरादून कोचुवेली एक्सप्रेस, गोवा-राजधानी एक्सप्रेस, केरल-राजधानी एक्सप्रेस, गोवा सम्पर्क क्रांति एक्सप्रेस,  महाराष्ट्र सम्पर्क क्रांति एक्सप्रेस का ठहराव शीघ्र से शीघ्र रतलाम स्टेशन पर किया जाये, साथ ही सभी गाड़ियों का आपात कोटा भी आवंटित किया जाये.

2. मन्दसौर से हरिद्वार तक चलने वाली यात्री गाड़ी मेरठ लिंक एक्सप्रेस में एक मात्र जनरल कोच होने से दैनिक यात्री एवं आमजन जो कि मन्दसौर, नीमच, निम्बाहेड़ा, चित्तौड तथा बून्दी के यात्रियों हेतु जनरल कोच (80 सीट) जो कि व्यवहारिक रूप से अपर्याप्त रहती है,  प्रतिदिन लगभग 300 से 500 जनरल टिकिट की बिक्री होती है. मन्दसौर से कोटा हेतु यात्रियों का आवागमन होता रहता है लेकिन ट्रेनों की पर्याप्त व्यवस्था नही है,  इस रूट पर पर्याप्त यात्री गाड़ी होने से व्यापारिक गतिविधियां भी बढेगी.

(1) इस हेतु कोटा से मन्दसौर के मध्य दो जनरल कोच की बढोतरी की जाये

(2) सफाई व्यवस्था के दृष्टिगत मन्दसौर से समय 14.05 से 14.30 होने से पर्याप्त समय में सफाई हो सकती है साथ ही ओबीएच की सुविधा भी इस यात्री गाड़ी को दी जाये. वर्तमान में मन्दसौर से कोटा तक सफाई व्यवस्था नही रहती है.

(3) पिपलिया स्टेशन स्टॉपेज होने से देश की प्रमुख लहसन मंडी और व्यापारिक केन्द्र  का लाभ आम जनता के साथ साथ रेलवे की भी राजस्व बढोतरी होगी.

(4) 29019-29020 पशुपतिनाथ-हरिद्वार लिंक एक्सप्रेस नामकरण होने से अष्टमुखी महादेव विश्व प्रसिद्ध पशुपतिनाथ से भारत वर्ष से आने वाले यात्रियों को जुड़ने का अवसर मिलेगा तथा मंदिर की ख्याति भी बढेगी.

(5) ट्रेन नं. 59834 एवं 59836 कोटा-नीमच-उदयपुर को कोटा-मन्दसौर-उदयपुर एवं वापसी में इसी ट्रेन उदयपुर-नीमच-कोटा को कोटा-मन्दसौर-उदयपुर तक  विस्तारित किया जाये. जिससे शिक्षा एवं स्वास्थ्य का लाभ भी मिलेगा.

3. मन्दसौर जिला जो कि प्रमुख व्यापारिक केन्द्र है यह जिला मध्यप्रदेश तथा राजस्थान का भी मुख्य केन्द्र बिन्दु है आधुनिकरण में रेलवे क्षेत्र काफी पिछड़ा हुआ है निम्न कार्य होने से रेल क्षेत्र प्रगति पथ की और अग्रसर होगा –

(1) जनशताब्दी, कोटा जम्मूतवी यात्री गाड़ी को मन्दसौर तक विस्तारित किया जाये
(2) इन्दौर से चित्तौड़ के बीच डेमो यात्री गाड़ी की बढोतरी की जाये.
(3) भोपाल के लिये प्रतिदिन रात्री 10 बजे के आसपास यात्री गाड़ी चलाई जाये.
(4) नई दिल्ली हेतु भी एक व्यापारिक गाड़ी चलाई जाये जो कि रात्रि में मन्दसौर से चले और प्रातः 8 बजे तक नई दिल्ली पहुंचे.
(5) पशुपतिनाथजी से सीधे वैष्णोदेवी हेतु यात्री गाड़ी चलाई जाये, दो धार्मिक तीर्थो को  जोड़ने से लाखों यात्रियों को लाभ मिलेगा.
(6) प्रतापगढ से मन्दसौर होते हुए सुवासरा नई रेल लाईन के लिये तत्काल उचित स्तर पर प्रयास किये जाकर इसका कार्य प्रारंभ करवाया जाये ताकि भविष्य में इसको प्रतापगढ से दाहोद एवं बड़ी सादड़ी तथा सांवरियाजी मंदिर तक बढाने से रेलवे की अतिरिक्त राजस्व की व्यवस्था होगी.
(7) मन्दसौर स्टेशन पर कोच इंडिकेशन सिस्टम की अत्यधिक आवश्यकता है, जिससे यात्रियों को आरक्षित कोच को ढूंढने में आसानी होगी.
(8) मन्दसौर में माल गोदाम स्थापना हेतु उचित प्रयास आवश्यक है इसके अभाव में  मन्दसौर का व्यापार व्यवसाय भी बुरी तरह प्रभावित हो रहा है.
4. पिपलिया स्टेशन भी मन्दसौर जिले का मुख्य व्यापारिक केन्द्र है,
(1) मुख्य समस्या रेलवे फाटक 141 की है यहां पर रेलवे द्वारा अपने 2015-2016 के रेल बजट में ओव्हरब्रीज हेतु बजट घोषित कर दिया है लेकिन वर्तमान स्थिति तक कोई भी टायटल क्लियर नही है, शीघ्र से शीघ्र रेलवे फाटक से मुक्ति यहां की जनता चाहती है.
(2) पेयजल हेतु भी वाटर कूलर एवं वाटर बूथ की अत्यधिक आवश्यकता है.
(3) पिपलिया स्टेशन पर लम्बे समय से बंद पड़े केन्टीन को पुनः चालू किया जाये.
(4) पिपलिया स्टेशन पर मेरठ लिंक एक्सप्रेस एवं विशेष ट्रेन दिल्ली-इंदौर का स्टॉपेज होने से आसपास के करीब 50 से अधिक ग्रामों को लाभ मिलेगा.
(5) पब्लिक एलाउंस सिस्टम होने से यात्रियों एवं रेलवे को सुविधा होगी.

5. मल्हारगढ में उदयपुर-इन्’दौर ठहराव किया जाये जिससे स्वास्थ्य लाभ हेतु उदयपुर-अहमदाबाद के यात्रियों को लाभ मिलेगा.

6. हर्कियाखाल स्टेशन जो कि मध्यप्रदेश-राजस्थान की सीमा से लगा है यहां करीब 35 ग्रामों का सम्पर्क केन्द्र है रतलाम-अजमेर ट्रेन का स्टॉपेज होने से यात्रियों को लाभ मिलेगा.

7. दलौदा स्टेशन पर इंदौर-उदयपुर ट्रेन का ठहराव किया जाये, क्योकि यहां क्रांसिग हेतु ट्रेन रूकती है, निर्धारित स्टॉपेज होने से यात्रियों को सुविधा होगी.

8. 11203-11204 जयपुर-नागपुर एक्सप्रेस को चित्तौड, मंदसौर रतलाम, नागदा, भोपाल होकर चलाये जाने से यहां के यात्रियों को नागपुर के लिये डायरेक्ट ट्रेन मिलेगी.

9. नागपुर-इंदौर एक्सप्रेस को उदयपुर तक विस्तारित किया जाये.
जयपुर-भोपाल एक्सप्रेस को नागपुर तक विस्तारित होने का लाभ भी पूरे क्षेत्र को मिलेगा

10. इन्दौर-जम्मूतवी ट्रेन को रतलाम, मन्दसौर, नीमच होते हुए चलाया जाये.

11. इन्दौर-आसाम ट्रेन को रतलाम, मन्दसौर, नीमच से होकर चलाया जाये.

12. 19413-14 अहमदाबाद-रतलाम-कोलकाता-अहमदाबाद ट्रेन को धनबाद रेलवे सेक्शन में आमान परिवर्तन हेतु बंद किया गया है, जिसे व्हाया अजमेर, मन्दसौर, रतलाम, भोपाल, कटनी, सतना, इलाहाबाद, मुगलसराय, गया, धनबाद हो कर संचालित किया जाये जिससे पूरे देश को जैन तीर्थ सम्मेद शिखरजी की यात्रा हेतु आसानी होगी.

13. पुरी-सोमनाथ समर स्पेशल को प्रतिदिन किया जाता है तो इस ट्रेन को व्हाया बडोदरा, रतलाम, भोपाल, नागपुर, रायपुर होकर चलाया जा सकता है.

14. जयपुर-पुणे सुपर फास्ट ट्रेन को चेन्नई तथा अजमेर-हैदराबाद सुपर फास्ट ट्रेन का बैंगलोर तक बढाये जाने से मालवा क्षेत्र को दोनों प्रमुख महानगरों में आवागमन में सुविधा होगी.

15. 14801-02 इंदौर-जोधपुर एक्सप्रेस को जैसलमेर तक विस्तारित किया जाये तथा जोधपुर पुरी एक्सप्रेस, जयपुर-चैन्नई एक्सप्रेस, जयपुर-बैंगलोर एक्सप्रेस, बीकानेर-बिलासपुर एक्सप्रेस को सप्ताह में एक बार व्हाया कोटा, चित्तौड, नीमच, मंदसौर, रतलाम होकर संचालित किया जाये.

16. वलसाड़-दाहोद-वलसाड़ इंटरसिटी को रतलाम तक विस्तारित किया जाये जिससे दोपहर में रतलाम से दाहोद-वडोदरा की और जाने वाली 19020 देहरादून एक्सप्रेस पर लोकल लोड कम होगा यात्रियों को बेहतर सुविधा मिलेगी.

17. अजमेर-बांद्रा-उदयपुर यात्री गाड़ी को झाबुआ जिले के मेघनगर स्टेशन पर स्टॉपेज किया जाये ताकि आदिवासी अंचल को भी रेल सुविधा का लाभ मिल सके. क्योकि बड़ी तादाद में झाबुआ जिले के मजदूर वर्ग नीमच-मन्दसौर तक आते है.

18. रतलाम मंडल के सभी स्टेशनों पर स्थित स्टॉलों पर निर्धारित रकम लेने हेतु मूल्य सूची लगाई जाये एवं वसूली भी उतनी ही की जाये. साथ ही रेलवे द्वारा अनुबंधित पदार्थ ही विक्रय किया जाये, घटिया एवं अमानक पदार्थ की बिक्री पर रोक आवश्यक है, वाहन स्टेण्ड पर भी दर निर्धारित करके सूची एवं ठेकेदार का नाम आवश्यक रूप से दर्ज किया जाये, अवैध वसूली बंद की जाये.

19. इंदौर-धार-दाहोद नई रेल लाईन का कार्य शीघ्रता से पूर्ण किया जाये.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY