ऑफिस की लड़की

ऑफिस की लड़की
पूरा पूरा ऑफिस में नहीं रहा करती
उसका आधा सदा उसके पीछे छूटा होता है

पर उस छुटे हुए आधे से ही वो
दुनिया चला लेती है बाकी की भी
गोया कि जादूगर होती हैं
विशेषण भी है
स्त्री का ये, पर्याय भी

ऑफिस की लड़की
नोटशीट की तरलता में ब्रेकफास्ट लिखती है पति का
टिफिन लम्बी फाइलों सा बेतरतीब होता है बहुत बार
जल्दबाजी नमक जितनी घुली होती है
कभी कम तो कभी ज्यादा
सही हिसाब कभी बैठता नहीं

बैग में दोपहर का खाना
लैपटॉप के साथ डाले
घर और दफ्तर के बीच की दूरी
बालो में “क्लचर” सा साधती
चलती है…

भेड़ है दरअसल वो
बचाये रखती है अपने को
भेड़िये की हर नजर से
ये गोरिल्ला युद्ध साधती है
रोज ही वो
गोया कि लड़ाकू है वो
विशेषण भी है
स्त्री का ये, पर्याय भी

उस ठीक वक्त
जब किसी फाइल पर
उलाहने निगल रही होती है
ऑफिस की लड़की
बहुत बार साइलेंट मोबाइल पर
बच्चों के फोन भी अनमने होकर काट रही होती है
क्योंकि उस ठीक वक्त उसे बच्चे की चिंता नही
ऑफिस की तीमारदारी करनी होती है
और फिर
उस शाम
ऑफिस की लड़की रखती है उपवास

ऑफिस की लड़की
नाप तौल के बोलती है
हर शब्द
संयमित रखती है खुद को
व्याख्या होने
निबंध में प्रसंग जुड़ने,
उपसंहार लिखे जाने का भय
उसे “नॉर्मल” नहीं होने देता
गोया कि “चरित्रवान” होना है उसे
थोपा हुआ
विशेषण भी है
स्त्री का ये, पर्याय भी

उनींदी आंखों में
साढ़े नौ से छह का वक्त
अपनी ग्लोब जैसी बिंदी पर टिकाये
सरकाती रहती है
एक्सेल शीट के जाल के बीच…

याद रहता है दूध का हिसाब भी
ऑफिस की लड़की को
उसके पीछे छूटे आधे में
जमा होती है उसकी बेचैनी
घर के बिखरे सामान में…

सिंक में पड़े बर्तनों में
बच्चो के होमवर्क में
तुलसी के सुख रहे पत्तों में
घर की ईएमआई में
स्कूल की फीस में
कार की किश्त में

ऑफिस की लड़की पूरा पूरा ऑफिस में नहीं रहा करती
उसका आधा सदा उसके पीछे छूटा होता है

ऑफिस की लड़की
की पूरी सैलेरी उसके “आधे” को मिलती है
और उसका पीछे पड़ा “आधा”
बिना मेहनताने दिन और रात को आपस में जोडे
घर-ऑफिस के चक्कर लगाता है
मजदूर है उसका “आधा”
और “आधा” कारीगर
जिससे बुनती है वो
रेशे रेशे सपनों के

दुनिया की हिचकी
किसी ऑफिस की लड़की की उच्छवास है
जो उसने “घर-ऑफिस” के बीच
थक कर कभी ली होगी
दुनिया खूबसूरत बेशक “लड़की” से है
पर सयानी “ऑफिस की लडकी” से

ऑफिस की लड़की किसी शाम ऐसे ही
अपने गुल्लक से
खरीदती है खिलौना बेटे का
दवाई सास की
और एक एक्सल चैक का शर्ट
अपने पति का
गोया कि जिम्मेदार है वो
विशेषण भी है
स्त्री का ये, पर्याय भी

जी हां, ऑफिस की लड़की पूरा पूरा ऑफिस में नहीं रहा करती
उसका आधा सदा उसके पीछे छूटा होता है

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY