एक्शन और हॉरर के शौकीनों के लिए है कॉमिक पुट विहीन डार्क नेचर की ये ‘ममी’

‘अतीत को दफनाया नहीं जा सकता, वह लौटकर वापस आता है’. विश्व की बहुचर्चित ममी सीरीज का तीसरा भाग भी लौटकर आया है. टॉम क्रूज की इस फिल्म को मनमाफिक रिव्यू नहीं मिले हैं. कोई एक सितारा दे रहा कोई दो. हालांकि फिल्म के प्रदर्शन पर नकारात्मक समीक्षाओं का कोई असर नहीं हुआ है.

शुक्रवार को प्रदर्शित हुई द ममी ने अब तक 151 मिलियन डॉलर की कमाई कर डाली है और इसका बजट है 125 मिलियन डॉलर. अभी फिल्म को रिलीज हुए केवल तीन दिन ही हुए हैं.

निर्देशक एलैक्स कर्टजमैन की इस फिल्म का पिछली फिल्मों से कोई सीधा सम्बन्ध नहीं बताया गया है. हॉलीवुड में पिछले कुछ साल से एक नई परंपरा चल पड़ी है. ख्यात ब्रांड की कहानी तीन से चार भाग बनाने के बाद ‘रिबूट’ कर दी जाती है. ये हम स्पाइडरमैन, सुपरमैन सीरीज की नई फिल्मों में देख चुके हैं. वैसे ही ममी को भी ‘रिबूट’ किया गया है.

लंदन में मेट्रो की खुदाई के दौरान एक मकबरा मिलता है. पुराविद और सरकार ये सोच कर हैरान है कि मिस्र की विरासत यहां कैसे आ पहुंची.

दूसरी ओर इराक में अमेरिकी सेना के लिए काम कर रहे निक मॉर्टन (टॉम क्रूज) और पुरानी चीजों पर रिसर्च करने वाली जेनी (अनाबेल वेलिस) को प्राचीन मिस्र की राजकुमारी आहमानेट (सोफिया बुटेला) का मकबरा मिलता है.

निक अनजाने में उसे आजाद कर देता है. उसके बाद रानी जिंदा हो जाती है. आहमानेट को मकबरे से आजाद करने की वजह से निक भी शापित हो जाता है.

ममी की पिछली तीन फिल्मों को देखे तो उनकी कहानियों में ‘कॉमिक’ पुट हुआ करता था. कॉमेडी के लिए भरपूर संभावनाएं बनती थी लेकिन ताज़ा फिल्म डार्क नेचर की है. इसमें आपको एक्शन के साथ हॉरर भरपूर मात्रा में मिलेगा.

कहानी को इस तरह पेश किया गया है कि औसत समझ वाला दर्शक भी पुरातत्व की कठिन बातों को समझ जाता है. निर्देशक ने पूरा प्रयास किया है कि पिछली सीरीज का  दोहराव नई सीरीज में महसूस न हो.

इस फिल्म में तीन किरदार बहुत सशक्त है. आहमानेट (सोफिया बुटेला), निक मॉर्टन (टॉम क्रूज) और रसेल क्रो (डॉ हेनरी).

इन तीनों में सोफिया सबसे वजनदार किरदार बनकर उभरती हैं. आप सोफिया को शोले का ‘गब्बर’ मान सकते हैं. उनकी प्रेजेंस में टॉम क्रूज़ भी बेबस नज़र आए हैं.

ये एक ऐसी ताकतवर रूह है जिसे मारा नहीं जा सकता. उसका एक इशारा मुर्दे को कब्र से निकाल लाता है.  ऐसे दमदार किरदार को अल्जीरियन अभिनेत्री सोफिया ने अपने खौफ से यादगार बना दिया है.

ऊपर बात हो रही थी नकारात्मक समीक्षाओं की. जैसा कि मैंने कहा किसी भी ब्रांड को ‘रिबूट’ करना उसकी बाजार कीमत को बनाए रखने के लिए बेहद जरुरी है.

ब्रैंडन फ्रेजर और जेट ली की मुख्य भूमिकाओं वाली ममी ऐसे नोट पर समाप्त हुई थी कि उस पर फिर से फिल्म बनाना निर्माता के लिए जोखिम भरा होता.

फिल्म को नए कलेवर में बनाया गया है इसलिए देखते समय पुरानी ‘ममी’ को घर ही छोड़ जाना बेहतर होगा.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY