संघर्ष ही समाप्त हो जाए, ऐसा जीवन में कभी नहीं होता

कल के JEE परिणामों के बाद बहुत से छात्रों की आशाओं पर आघात लगा होगा, क्योंकि उनका नाम IIT के लिए नहीं आया. उसके अतिरिक्त उन सभी बच्चों ने जिनके कुछ कम अंक आ गए वह भी कभी-कभी हतोत्साहित हो जाते हैं.

कुछ ही ऐसे छात्र होंगे जिन्हे अपनी आशा के अनुरूप फल मिला है. परंतु अधिकांश, चाहे वह IIT मे चुने भी गए हैं, असंतुष्ट पाये जाते हैं. हर एक को और अधिक अंक प्राप्त करने थे.

अपनी आशाओं को आगे रखना बहुत अच्छा है और उसके लिए प्रयास करना उससे भी श्रेयस्कर है. परंतु छात्र और अभिभावक यह अवश्य समझें कि प्रतियोगी परीक्षाओं का परिणाम सापेक्ष होता है.

यदि किसी ने आपसे बेहतर किया तो वह आपसे आगे है. परंतु दुर्भाग्य से कभी-कभी हम अपने बच्चों को आगे बढ़ाने की अपेक्षा उनकी क्षमता से अधिक कर लेते हैं. और बच्चे भी इसे ही एक मात्र जीवन का लक्ष्य मान लेते हैं.

आगे बढ़ने की आशा, महत्वाकांक्षा और जुनून में बहुत महीन लकीर है. इसे यदि आप इसे और बढ़ाएँगे तो यह आवेग और आवेश में परिवर्तित हो जाएगा जो किसी भी व्यक्ति के लिए अच्छा नहीं रहेगा.

बच्चे ने जो भी अंक प्राप्त किए है, उसका मनोबल बढ़ाएँ और यहीं पर यह कहना भी उतना ही आवश्यक है कि यदि उसकी मेहनत मे कोई कमी रही है तो उसे समझाएँ. अब तो परिणाम आ गए कुछ बदलने वाला नहीं है. उसे जीवन में आगे बढ़ाने के लिए प्रयास करना है न कि पुरानी बातों को ले कर बैठें.

जो बच्चे सफल हुए हैं उनको बधाई और साथ ही वह यह समझें कि आपने जीवन में कुछ प्राप्त किया है और आपकी प्रतिभा को अब और बढ़ाने का सौभाग्य आपको प्राप्त हुआ है.

परंतु कभी भी यह न समझें कि जीवन का संघर्ष इस IIT के साथ समाप्त हो जाएगा. इतना अवश्य है कि आपकी इस जीत के कारण आपके मित्रों, अभिभावकों और देशवासियों को आपसे अपेक्षा बढ़ जाएगी और मुझे पूर्ण विश्वास है कि आप इसका ध्यान रखेंगे.

संघर्ष जीवन का अंग है. आपको संघर्ष से परास्त न होने की शिक्षा प्राप्त करनी है. संघर्ष ही समाप्त हो जाएँ, ऐसा किसी के भी जीवन में नहीं हुआ है. मुझे इतने वर्षों में एक भी व्यक्ति नहीं मिला जिसने जैसे चाहा जीवन जिया. अपेक्षा से बेहतर और बदतर दोनों हो सकते है.

जो बच्चे IIT में नहीं जा पा रहे उनके लिए यह समझना है कि जैसा मैंने ऊपर कहा कि IIT जीवन का अंत नहीं है. आप अब बचे हुए विकल्पों में से बहुत सोच समझ कर सबसे बेहतर विकल्प लें.

यदि इस परिणाम के बाद आपको अपने में कुछ कमी लगी है तो कोशिश करके उस कमी को आगे के जीवन के लिए बेहतर बनाए. जीवन आपको आगे और रास्ते देगा.

जीवन में आपके पास अनेकों मौके आएँगे अलग-अलग प्रकार से आगे बढ़ने के, उन को न जाने दें. हर असफलता कुछ न कुछ सीख देती है, उसे लें.

जो बच्चे जा रहे हैं उनके अभिभावक और बच्चे स्वयं इस प्रश्न पर जूझते पाये जाते हैं कि क्या Mechanical लें या Chemical, Computer या Electrical, उसके विषय में बच्चे का रुझान सबसे अधिक महत्वपूर्ण है.

कुछ लोग इस पर आ जाते हैं कि किसका स्कोप बेहतर है. प्रश्न है कि आपका अंतिम उद्देश्य क्या है… और वह है हम सुखी रहें. धन जीवन की आवश्यकता है यह सत्य है पर धन ही सब कुछ नहीं है.

आपका रुझान जिस भी विषय में है वह आपके लिए बेहतर है. अब बहुत से बच्चे यह भी नहीं जानते कि हर Branch में क्या पढ़ाया जाता है? उसके लिए उस क्षेत्र के कम से कम 10 लोगों से पहले जानकारी हासिल करें. फिर मन बनाएँ.

यदि आपको मेरी इसमें सहायता चाहिए तो मुझ से संपर्क कर सकते हैं. पिछले 27 वर्ष के अध्यापन के कारण लगभग हर क्षेत्र में मेरे विद्यार्थी हैं, आप उनसे संपर्क करें.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY