दंगाइयों को रोकने गांधीगिरी करेंगे शिवराज

शिवराज मामू बनेंगे गांधी

जहां गांधी का लट्ठ उठा कर दंगाइयों को खदेड़ने की ज़रुरत है, वहाँ मामूजान अब दंगे शांत करवाने के लिए उपवास करेंगे.

बढ़िया है.

अब कम से कम मध्यप्रदेश में तो अपराधियों को बेखौफ हो जाना चाहिए. मामू की इस पहल के बाद अब प्रशासन, अपराधियों को अपराध से रोकने के लिए क़ानून का इस्तेमाल न करके उपवास करेगा.

ए मेरे प्रदेश के जेबकतरे भाइयों, जेब काटना बंद करो वरना हम उपवास करने बैठ जाउंगा.

ए मेरे प्यारे अतिक्रमणकारियों, कब्ज़ा छोड़ दो वरना हम हंगर स्ट्राइक करूंगा.
ए eve teasers लाड़लों, लड़कियां छेड़ना बंद कर दो अन्यथा मामूजान अनशन करेंगे.

जानबूझकर उन अपराधों का उल्लेख किया है जो मंदसौर के आतंकियों के कुकृत्यों से कम संगीन हैं.

जब उन जैसे जघन्य अपराधियों के लिए प्रदेश का मुखिया भूखे रहकर उन्हें सुधारने की घोषणा करे तो फिर बेचारे इन टुटपूंजिये अपराधियों पर पुलिसिया कार्रवाई क्यों हो.

मामाजी, यूं मिनमिनाने के लिए तो नहीं सौंपी थी गद्दी आपको!!! तीन दिनों से अकर्मण्यता का आरोप तो लग ही रहा था, अब आपने स्वयं को अक्षम भी साबित कर दिया.

आप लाख कोशिश कर लें, ‘किसानों’ की हत्यारी सरकार का तमगा तो आप दिलवा ही चुके हैं भाजपा सरकार को, अब पिलपिली सरकार का विशेषण दिलवा कर पार्टी की भद्द न पिटवाइए.

या ये गद्दी छोड़ने से पहले की शहीदी मुद्रा है? यकीन जानिए इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ने वाला, अगले साल हम नए नेता के साथ ही चुनाव में उतरेंगे.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY