राष्ट्रपति चुनाव 17 जुलाई को, मज़बूत स्थिति में एनडीए

नई दिल्ली. भारत के राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव 17 जुलाई को होगा. केंद्रीय चुनाव आयुक्त ने बुधवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर आगामी राष्ट्रपति चुनाव से जुड़ी घोषणा की.

चुनाव आयोग की प्रेस कॉन्फ्रेंस में मुख्य चुनाव आयुक्त नसीम जैदी ये ऐलान किया. गौरतलब है कि राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी का कार्यकाल 24 जुलाई को खत्म हो रहा है.

चुनाव आयोग 14 जून को राष्ट्रपति चुनाव का नोटिफिकेशन जारी करेगा. नामांकन करने की अंतिम तारीख 28 जून होगी. नामांकन पत्रों की जांच 29 जून को होगी.

चुनाव आयुक्त ने बताया कि नामांकन वापस लेने की अंतिम तिथि 1 जुलाई होगी. राष्ट्रपति चुनाव के लिए वोटिंग ज़रूरी हुई तो 17 जुलाई को वोट डाला जाएगा. मतगणना 20 जुलाई को होगी.

सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक वोटिंग का समय तय किया गया है. चुनाव आयुक्त ने स्पष्ट कर दिया कि कोई भी राजनीतिक दल अपने संसद सदस्यों या विधायकों को कोई भी व्हिप जारी नहीं कर सकता है.

मुख्य चुनाव आयुक्त ने बताया कि राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति चुनाव के लिए एक खास निर्वाचक पेन का इस्तेमाल किया जाएगा. दूसरे पेन का इस्तेमाल करने पर वोट अवैध मान लिया जाएगा. चुनाव आयोग इस खास पेन की सप्लाई करेगा.

राष्ट्रपति पद के चुनाव में एनडीए स्थिति विपक्ष के मुकाबले बेहतर है. वोट शेयर के मामले में एनडीए को कांग्रेस के नेतृत्व वाले विपक्ष से तकरीबन 15 फीसदी बढ़त हासिल है.

एनडीए (23 पार्टियों के सांसद और राज्यों के सदनों में जनप्रतिनिधि) के पास राष्ट्रपति चुनाव से संबंधित इलेक्टोरल कॉलेज में तकरीबन 48.64 फीसदी वोट हैं. इसमें अकेली बीजेपी के पास ही 40 फीसदी वोट हैं.

वहीं, राज्य या केंद्र में राजनीतिक समीकरणों के आधार पर कांग्रेस की अगुआई वाले विपक्ष के साथ जाने वाली 23 राजनीतिक पार्टियों का वोट शेयर 35.47 फीसदी बैठता है, जो अकेली बीजेपी के वोटों से भी काफी कम हैं.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY