हमने जो सत्तर सालों में नहीं दिया, अब दिलवाएंगे

किसानों, सैनिकों, मजदूरों, दलितों, जाटों, मराठाओं, पटेलों… उठो, जागो. जो तुम्हें हमने सत्तर साल में कभी नही दिया, वो सब कुछ तुम्हें, हम कांग्रेसी… भाजपा सरकारों से दिलवायेंगे.

चलो हमारे साथ…

हम किसानों का पूरा कर्ज़ माफ करवायेंगे. चाहे वो सरकारी बैंक का हो या कारपोरेट बैंक का. चाहे वो कर्ज किसी साहूकार से या रिश्तेदार से बेटे की शादी के लिये लिया हो या ट्रैक्टर या भैंस के लिये… हम सारा माफ करवायेंगे.

लॉजिक गया तेल लेने… तुम तो बस हमारे साथ चलो… तुम्हे करना कुछ नही है… सारा काम हमारे गुण्डे करेंगे, फिर चाहे एम.पी. हो या महाराष्ट्र या हरियाणा.

सैनिकों हम तुम्हें OROP तो कभी नहीं दे पाये लेकिन ये सरकार जितना देगी हम उससे दुगुने की माँग करेंगे… बस तुम आ जाओ हमारे साथ.

दलितों को हम आजादी के 70 साल बाद इंसाफ दिलवाकर रहेंगे. हमें तो सत्ता की मलाई खाने में ये ध्यान ही नही रहा कि तुम्हें हक, इज्जत, बराबरी भी देना थी. अब ये भाजपा सरकारें ऐसा कर रही हैं तो… हम इसको और अच्छे से करवायेंगे… तुम बस आ जाओ हमारे पीछे-पीछे.

मज़दूरों, हम तुमको अब मालिक बनाकर ही मानेंगे. इस देश में अब मज़दूरों के लिये कोई जगह नही है. मनरेगा में अब अडाणी-अम्बानी काम करेंगे. बस तुम हमें वोट दे दो.

कोई भी जाति अगर आरक्षण पाने वालों में शामिल होना चाहती है, तो हमसे मिलो. हम आंदोलन करवायेँगे… तुम्हे आरक्षण दिलवायेँगे. सिर्फ भाजपा शासित प्रदेशों के ही लोग सम्पर्क करें.

हम काँगेसी, इन भाजपा सरकारों को उखाड़ फेंकने के लिये कुछ भी करेंगे. पटरी उखड़वायेंगे, बसे जलवायेंगे, दंगे करवायेँगे, खाने-पीने की जरूरी चीजों- दूध, सब्जी, फलों को सड़कों पर फिकवायेंगे… चाहे लोगों को ना मिले.

यहाँ तक कि इन सरकारों को मज़ा चखाने के लिये आप पर गोलियाँ तक चलवा देंगे… आप बस हमारे साथ आओ, हमारी खोई हुई राजनीतिक ज़मीन हमें लौटाओ.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY