गायों की रक्षा के लिए बनना ही होगा शिवाजी और मंगल पाण्डेय!

शिवाजी एक बार बाजार में खड़े थे… तभी वहां से एक कसाई गाय को लेकर गुज़रा. वो गाय को वध के लिये ले जा रहा था. गाय समझ गयी थी कि उसका अंत निश्चित है. गाय की आंखो से आंसू निकल रहे थे. वो पछाड़े खा खा कर जमीन पर गिर रही थी. कसाई उसे … Continue reading गायों की रक्षा के लिए बनना ही होगा शिवाजी और मंगल पाण्डेय!