शहीद करतार सिंह सराभा, जिन्हें अपना आदर्श मानते थे भगत सिंह

इस देश के युवाओं के लिये भगत सिंह सबसे बड़े आदर्श हैं पर भगत सिंह जिन्हें अपना आदर्श मानते थे उनके बारे में बहुत कम लोग जानते हैं. भगत का आदर्श कोई बुजुर्ग साधु-संन्यासी, कोई राजनेता या कोई आध्यात्मिक व्यक्तित्व नहीं बल्कि साढ़े 19 साल का एक युवक था.

भगत अपने जेब में साढ़े 19 साल की इस युवक की तस्वीर रखा करते थे और उसकी तस्वीर के सामने माल्यार्पण करके किसी सभा की शुरुआत करते थे.

भगत का ये आदर्श पंजाब के लुधियाना के एक छोटे से गाँव के धनाढ्य परिवार में 24 मई 1896 को जन्मा था. उसके तीनों चाचा सरकारी सेवा में अच्छे पदों पर थे.

अपनी उम्र के 11 साल में थे तब बंगाल में बंग-भंग आन्दोलन शुरू हो गया और वहीँ से क्रांति और देशप्रेम का बीजारोपण उनके अंदर हो गया.

हाई स्कूल की परीक्षा पास करने के बाद उच्च शिक्षा के लिये उस बालक ने 1911 में अमेरिका का रुख किया.

जहाज से जब अमेरिका की भूमि पर सैन फ्रांसिस्को तट पर कदम रखा तो वहां के अधिकारियों ने बेहद अपमानजनक तरीके से उनकी तलाशी ली और उनके साथ बुरा व्यवहार किया.

ऐसा बर्ताव जहाज से आने वाले दूसरे लोगों के साथ नहीं किया जा रहा था तो वो उस अधिकारी से पूछ बैठे कि ऐसा व्यवहार केवल मेरे साथ ही क्यों? जवाब मिला, तुम गुलाम देश इंडिया से आये हो इसलिये.

इस घटना ने उनकी जिन्दगी और सोच की दिशा ही बदल दी. फिर उन लोगों की संगत खोजने लगे जिनके अंदर भारत को आजाद कराने का जूनून था.

मदाम भिकाजी कामा, तारक नाथ दास, सोहन सिंह भाखना, बाबा ज्वाला सिंह, बरकतुल्लाह, लाला हरदयाल और इन जैसे कुछ जुनूनियों ने मिलकर 1913 में गदर पार्टी की स्थापना की. उद्देश्य था अंग्रेजों से भारत को आजाद करवाना.

संगठन ने कई भाषाओं में ग़दर नाम का एक अख़बार शुरू किया जो क्रान्ति की लौ जलाती थी. भारत से गये इस बालक को उस अखबार के गुरुमुखी संस्करण को संपादित करने की अहम जिम्मेदारी दी गई.

इतने बड़े उद्देश्य वाले अख़बार के इस गुरुमुखी संस्करण के सम्पादक की उम्र थी महज 17 साल. इस लड़के को जितनी अच्छी गुरुमुखी आती थी उतनी ही महारत उसे आंग्ल भाषा पर भी थी.

अमेरिका में संगठन ने तय किया कि 1857 की ही तर्ज़ पर भारत जाकर वहां की सैनिक छावनियों में विद्रोह कराया जाये. इस अहम काम का जिम्मा उस युवक को भी सौंपा गया और वे कोलम्बो के रास्ते भारत आ गया.

यहाँ आकर उन्होंने पूरे देश का दौरा किया, रासबिहारी बोस, सचींद्र नाथ सान्याल कई बड़े क्रांतिकारियों से मुलाकात की और योजना की रुपरेखा तैयार की. सब कुछ तय था पर ऐन मौके पर ही उनमें से एक क्रान्तिकारी के रिश्तेदार कृपाल सिंह ने गद्दारी कर दी और पूरी योजना निष्फल हो गई.

ग़दर पार्टी के बड़े से बड़े नेता को देश छोड़ना पड़ा पर करतार देश छोड़कर नहीं गए बल्कि अपने दो साथियों हरनाम सिंह टुंडीलत और जगत सिंह के साथ जंग जारी रखने का निश्चय किया.

लायलपुर में विद्रोह करवाने की नाकामयाब कोशिश करते हुए अंग्रेजों द्वारा गिरफ्तार कर लिये गये, उन पर मुकदमा चला और 16 नवंबर, 1915 को उन्हें उनके छः साथियों के साथ फांसी दे दी गई.

जज ने उन्हें षड्यंत्र का सबसे खतरनाक अपराधी मानते हुए अपने फैसले में लिखा, “He is very proud of the crimes committed by him. He does not deserve mercy and should be sentenced to death.”

जज ने अपनी टिप्पणी में ये भी लिखा था कि “इस युवक ने अमेरिका से लेकर हिन्दुस्तान तक अंग्रेज़ शासन को उलटने का प्रयास किया. इसे जब और जहाँ भी अवसर मिला, अंग्रेज़ों को हानि पहुँचाने का प्रयत्न किया. इसकी अवस्था बहुत कम है, किन्तु अंग्रेज़ी शासन के लिए बड़ा भयानक है.”

अंगरेजी सरकार की नींद उड़ा देने वाले इस वीर का नाम था “करतार सिंह सराभा”. जिस वक़्त उन्हें फांसी दी गई वो केवल साढ़े उन्नीस साल के थे. उनसे जुड़े प्रसंगों को देखने के बाद हमारे लिये ये समझना मुश्किल नहीं रह जाता है कि आखिर क्यों भगत सिंह जैसे वीर हुतात्मा उन्हें अपना आदर्श मानते थे.

कहते हैं कि जब उनकी फांसी की सजा का ऐलान हो गया तो एक दिन जेल में करतार के दादाजी मिलने आए. दादाजी ने ही उनका लालन-पालन किया था.

आकर बोले, ‘बेटा, हमारे सारे रिश्तेदार तुझे बेवकूफ बता रहे हैं. ऐसा करने की तुझे जरूरत क्या थी? आखिर क्या कमी थी तेरे पास?’

करतार का जवाब थे, ‘जो रिश्तेदार मुझे बेवकूफ बता रहे हैं, उनमें से कोई हैजे से मर जाएगा, कोई मलेरिया से तो कोई प्लेग से मर जायेगा पर मुझे ये मौत देश की खातिर मिलेगी, इतने नसीब उन सबके कहां है दादाजी.’

दादा अपने भाग्य पर गर्व करते हुए वापस लौट गये.

गांधी को गुलामी का एहसास तब हुआ था जब दक्षिण अफ्रीका में इंडियन होने के चलते उन्हें जलील किया गया, यही एहसास सैन फ्रांसिस्को तट पर करतार को भी हुआ था. गांधी ने खुद को कुर्बानी के रास्ते पर नहीं झोंका.

राष्ट्र की सेवा करने के अवसर भी गांधी को कहीं ज्यादा मिले जबकि करतार के पास देश की सेवा करने का वक़्त सीमित था क्योंकि उन्हें सुप्त भारत को जगाने के लिये उन्हें खुद को महाकाल के आगोश में सुलाना था.

क्या नहीं था उस युवक में, साढ़े उन्नीस साल की उम्र पर प्रतिभा इतनी कि लाला हरदयाल, भाई परमानन्द, श्यामजी कृष्ण वर्मा से लेकर रासबिहारी बोस तक उनसे मश्वरा करते थे.

उन्होंने 17 साल की उम्र में इसने ग़दर जैसे बड़े अखबार के पंजाबी संस्करण का सम्पादन किया था, धनाढ्य परिवार से होने के बावजूद उसने क्रान्ति की कंटीली राह चुनी और भारत में अंगरेजी राज को नाकों चने चबाने पर मजबूर कर दिया.

करतार के बलिवेदी चढ़ने से पहले किसी ने उनसे उनका परिचय पूछा था, ‘तुसी किस दे बन्दे ओ?’

उन्होंने अपना परिचय बताते हुए कहा था, ‘असी हिन्द दा बंदा (मैं हिन्द का बंदा हूँ).’ मगर अफ़सोस आज हिन्द में कोई उस करतार का स्मरण करने वाला नहीं है.

आज उस वीर करतार सिंह सराभा का पावन जन्म दिवस है, उनका स्मरण करते हुये भारत भक्ति का संकल्प लीजिये.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY