वॉटर टैंकर घोटाले में केजरीवाल के निजी सचिव से ACB की पूछताछ

नई दिल्ली. वॉटर टैंकर घोटाले की जांच कर रही एसीबी (एंटी करप्शन ब्रांच) ने बुधवार को अरविंद केजरीवाल के निजी सचिव विभव कुमार से करीब साढ़े 3 घंटे तक पूछताछ की.

विभव कुमार पर दिल्ली सरकार के ही पूर्व जलमंत्री कपिल मिश्रा ने वॉटर टैंकर घोटाले की फ़ाइल 11 महीने तक दबाने का आरोप लगाया था.

दरअसल, अरविंद केजरीवाल की सरकार ने ही जुलाई 2015 में 5 लोगों की एक कमेटी बनाकर इस मामले की जांच बिठाई.

कमेटी ने उसी साल अगस्त में केजरीवाल को जांच रिपोर्ट सौंप दी, जिसमें कहा गया कि शीला दीक्षित सरकार ने स्टील के वॉटर टैंकर लेने और उनमें जीपीएस लगवाने में 400 करोड़ से ज्यादा का घोटाला किया है.

रिपोर्ट आने के बाद भी अरविंद केजरीवाल सरकार ने एसीबी को इस मामले की जांच के आदेश करीब 11 महीने बाद दिए.

एसीबी भी केजरीवाल पर फाइल दबाने का आरोप लगा चुकी है, लेकिन पूछताछ हुई केजरीवाल के निजी सचिव से वो भी कपिल मिश्रा के आरोप लगाने के बाद.

इससे पहले दिल्ली के पूर्व जल संसाधन और पर्यटन मंत्री कपिल मिश्रा ने केजरीवाल को खुली चुनौती देते हुए एक ब्लॉग लिखा था.

इस ब्लॉग में कपिल ने केजरीवाल की चुप्पी AAP विधायकों के साथ हुए डिनर पर निशाना साधते हुए कहा कि केजरीवाल जल्द ऐसे सीएम बनने वाले हैं, जिन पर भ्रष्टाचार के सबसे ज्यादा मामले होंगे.

बुधवार को कपिल ने केजरीवाल के खिलाफ लिखा ब्लॉग पोस्ट करते हुए ट्वीट किया कि ब्लॉग में केजरीवाल की सच्चाई लिखी गई है और एक भी बात केजरीवाल गलत साबित करके दिखाएं.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY