आज भी कुछ मूर्ख कहते हैं, ‘हमने तो नहीं सुना कि पुरुष भी पीड़ित हैं!’

कृष्ण कुमार त्रिपाठी, अधिवक्ता, मप्र उच्च न्यायालय, इंदौर.

आइये आपको कुछ भारतीय कानूनों का सच बताएं

1. क्या आपको पता है कि अगर एक नाबालिग जोड़ा यानी नाबालिग लड़का और नाबालिग लड़की सहमति से सेक्स करते हैं और अगर वो पकड़े जाते हैं तो लड़के पर लड़की के रेप करने का मामला दर्ज होता है, लड़के की ज़िन्दगी बर्बाद हो जाती है। एक बात समझ नहीं आई कि लड़की के ऊपर लड़के का रेप करने का मामला दर्ज क्यों नहीं होता?

2. अगर आप विवाहित पुरुष हैं और अगर आपकी पत्नी आपसे चोरी छिपे किसी की रखैल बनकर रहती है और किसी और के बच्चे की माँ बन जाती है तो भारतीय कानून के अनुसार वो बच्चा आपका ही माना जाएगा, भले वो आपका न हो, और उस बच्चे का भरण पोषण आपको ही करना पड़ेगा… अगर आप ऐसा नहीं करेंगे तो आपको जेल में ठूंस दिया जाएगा… कुल मिलाकर दूसरे की रखैल बनी आपकी पत्नी को कोई सज़ा नहीं होगी.

3. अगर आपकी पत्नी चरित्रहीन है तो आप उसके खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं कर सकते. सिर्फ तलाक ले सकते हैं. भारतीय कानून के अनुसार सिर्फ चरित्रहीन पुरुष को ही सज़ा दी जा सकती है, चरित्रहीन औरत को नहीं… हालांकि सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस आफताब आलम ने इस कानून की भर्त्सना करते हुए इसे पुरुष विरोधी बताया था.

4. अगर कोई महिला आपका यौन शोषण करे तो आपको कोई न्याय नहीं मिलेगा क्योंकि भारतीय कानून में ऐसी औरतों के लिए कोई प्रावधान ही नहीं है.

5. हमारे देश में हर साल कई महिला शिक्षक नाबालिग छात्रों के साथ सेक्स करती हैं लेकिन उन महिला शिक्षकों पर कोई रेप केस दर्ज नहीं होता… क्योंकि भारतीय कानून व्यवस्था 18वीं सदी की है जिसके अनुसार महिला रेप कर ही नहीं सकती… जबकि इंग्लैंड में 64000 ऐसी महिलाओ को नाबालिग लड़कों का रेप करने के आरोप में जेल में डाला जा चुका है…

6. अगर आपकी पत्नी आप को मानसिक त्रास देती है या शारीरिक हमला करती है तो उसको घरेलू हिंसा का दोषी नहीं माना जाएगा… लेकिन आपको माना जाएगा…

7. अगर शादी के बाद आप अपनी पत्नी से पैसा मांगते है तो उसको दहेज़ माना जाएगा जबकि अगर वो आपसे पैसा मांगे तो उसको दहेज़ नहीं माना जा सकता… क्यों?

कैसे लगे आपको भारत के कानून? और इन बातों का जवाब भारत के स्त्री समुदाय के पास है ही नहीं… कैसे होगा…? क्योंकि देश का स्त्री समुदाय कहीं न कहीं पुरुष विरोधी तो है…. इन कानूनों को कहते है तालिबानी कानून…

और एक बात… महिलाओं के ऊपर देश का बिकाऊ मीडिया खूब सर्वे करता है, केंद्र सरकार खूब सर्वे करती है… जिसमें महिला अत्याचार इत्यादि का जिक्र रहता है… लेकिन पुरुषो के ऊपर आज तक कोई सर्वे नहीं किया गया…

उसके बाद कुछ मूर्ख कहते है कि हमने तो नहीं सुना कि पुरुष भी पीड़ित है… है न ये कितनी बड़ी मूर्खता… जरा सोचिये…

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY