खुला खत नक्सलियों के नाम

प्यारे नक्सली भैया !

माना आप भूमिहीन हो, पर अपने ही रक्षा-प्रहरी को मारकर कैसी शान्ति मिलती है आपको!

देश में सिर्फ आप ही गरीब नहीं हो, हम जैसी शिक्षिका, रचनाकार भी गरीब हैं. हम कलम घिसते हैं, किन्तु आप हथियार उठाते हो. अगर ज्यादा ही मारने का शौक है, तो बॉर्डर पर जाकर दुश्मनों को मारो, उन्हें घर के अंदर तक जाकर हड़का दो, तब न जाने तुम्हारी मर्दानगी! ….. और फिर देश के अंदर छिपे आतंकवादियों को खदेड़-खदेड़ कर मारो.

कल ही तो हमने बापू के चंपारण यात्रा की सौवीं सालगिरह मनायी. वह बापू, जिसने अहिंसा का पाठ पढ़ाये थे. छत्तीसगढ़ में 2 दर्जन से अधिक CRPF को मारकर तुम्हारे कौन-से कलेजे में ठंडक पहुंची ! इसबार भी बिहार ने शहीदों की आगवानी की.

ये शहीद जीवित रहते भी देशसेवा में लीन थे, भूखे-प्यासे! तुम इन्हें मारकर कितने ही घर उजाड़े, तुम्हें तो पता होगा नहीं? कितनी माताओं की कोख खाली हुई, कितने बच्चे अनाथ हुए और कितने ही विधवा हो गई. भले ही वे तुम्हारे प्रत्यक्ष रक्त- सम्बन्ध नहीं थे, परंतु भारत माँ की संतान होने के नाते वे तुम्हारे भाई अवश्य थे! अपनी भाभी व भावज का घर उजाड़ कर कुछ मिला तो बोलो! उत्तर सिफर में होगा.

तुम्हारी गरीबी का कोई उपहास नहीं उड़ाता, परंतु तुम देश के मुख्यधारा में आओगे, तब ही न तुममें विकास पनपेंगे. सादर प्रणाम.

एक कलमकार
स्वर्णलता ‘विश्वफूल’ (कवयित्री),
कटिहार (बिहार)

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY