रे कृष्णा… तू बड़ा वो है

वसुदेव श्रीकृष्ण, देवकी नंदन श्रीकृष्ण.
नंद के दुलारे, यशोदा के प्यारे,

माखनचोर, मनमोहन, घनश्याम,
ग्वाल बाल के अपने, गोपियों के सपने

वंशीधारी, मुरलीमनोहर, गोवर्धनधारी श्रीकृष्ण.

पूतना के मुक्तिदाता, कंस के मोक्षदायक,
शिशुपाल के त्राता, फिर भी रणछोड़ श्रीकृष्ण.

मथुरेय, गोकुलसुत, द्वारिकाधीश
जगतगुरु श्रीकृष्ण.

श्रद्धा, भक्ति, आस्था,
विश्वास, शक्ति, दुलार श्रीकृष्ण.

यदुवंशी, योगीराज, राधा कांत,
रुक्मणि के अर्धांग, सत्यभामा के श्री कृष्ण

मीरा के प्रभु गिरिधर नागर,
भगवद गीता व्याख्याता अर्जुन सखा श्रीकृष्ण,

द्रोपदी की साड़ी श्रीकृष्ण
विदुर के केले के छिलके में श्रीकृष्ण,

कुंती की प्रतिष्ठा श्रीकृष्ण,
पितामह भीष्म की प्रतिज्ञा श्रीकृष्ण,
दुर्योधन की अवज्ञा श्रीकृष्ण,

उधो का माधो,
ब्रज का स्मार पत्र श्री कृष्ण.

गीता का ज्ञान, भगवद का वैराग्य,
गोपियों का शृंगार, महाभारत का शौर्य,

भारत का प्रकाश, पार्थ का सारथ्य,
अर्जुन के धनुष, पांडव की पताका श्रीकृष्ण,

युधिष्ठिर का सत्य, भीम की ताक़त,
नकुल के सह-देव श्रीकृष्ण.

देवव्रत के अस्त्र, ललनाओं के वस्त्र,
कुब्जा के सौंदर्य, सुभद्रा की राखी श्रीकृष्ण,

सुदामा का वैभव
योगीराज सन्यासी श्रीकृष्ण.

निर्लिप्त भी अलिप्त भी, लिप्त भी,
प्रवृत्ति भी निवृत्ति भी,

साकार भी निराकार भी,
सगुण भी निर्गुण भी,

निर्विकार श्रीकृष्ण.
कालिया के सर पर करते नृत्य श्रीकृष्ण.

रे कृष्णा… तू बड़ा वो है.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY