खट्टर साहब में बस एक कमी!

पिछले दिनों मैने हरियाणा के राजनीतिक समीकरणों पर  लिखा था.  इस पर कई मित्रों ने लिखा कि हरियाणा में सीएम खट्टर साहब बेहद अलोकप्रिय हैं और भाजपा अगला चुनाव हार जाएगी.

यूं कि खट्टर साहब ने हरियाणा का सत्यानाश कर दिया है. एक मित्र ने खास कर हरियाणा की बिजली व्यवस्था की दुर्दशा पर ध्यान दिलाया.

आज से कोई साल भर पहले मैं अपने एक मित्र के साथ बाहरी दिल्ली के एक गांव में उनके घर गया. सुबह जब मैं सो के उठा तो उन्होंने मुझे अपने गांव में पानी की बर्बादी दिखाई.

ये देखिए, दिल्ली जहां एक-एक बूंद पानी के लिए तरसती है, यहाँ हमारे गांव में कैसे Submersible Pumps चला के गाड़ियां धोई जा रही हैं, गली में पानी छिड़का जा रहा है और फर्श धोए जा रहे हैं, भैंसें नहलाई जा रही हैं….

बिजली मुफ्त की, पानी मुफ्त का, जब मर्जी, जहां मर्जी Submersible pump गाड़ लो और चलाओ….

ये बिजली मुफ्त क्यों और कैसे???

अजी दिल्ली सरकार और केजरीवाल की क्या औकात कि हमारे गांव में आ जाये और मीटर लगा दे या बिल वसूल ले?

ये बताना मैं भूल गया कि किस्सा पिछली गर्मियों का है और हम AC में सोए थे.

बहरहाल, ये किस्सा तो बाहरी दिल्ली का है, हरियाणा के गांवों में हालात इस से भी बदतर हैं. बिजली का मनमाना दुरुपयोग होता है हरियाणा के गांवों में.

मुझे खट्टर साहब का वो वक्तव्य याद आता है जो उन्होंने पिछले साल पानीपत के पास एक रैली में दिया था.

उन्होंने कहा कि भाइयों…. 24 घंटे बिजली चाहते हो? अगर चाहते हो तो सब अपने घरों में मीटर लगवा लो और पूरा बिल दो….

इतना जान लो कि ये जो बिजली आज 14 – 16 घंटे आ रही है, ये यूं 14 – 16 घंटे नही रहेगी. या तो 24 घंटे आएगी नही तो 4 घंटे ……… पसंद आपकी है.

जहां तक मैं जानता हूँ, खट्टर साहब एक बेहद ईमानदार आदमी हैं और बेहद पारदर्शी और ईमानदार प्रशासक हैं.

भ्रष्ट अधिकारी और भ्रष्ट व्यवस्था को ईमानदार लोग हजम नही होते. भ्रष्ट, आलसी, निकम्मी, कामचोर और भ्रष्टाचार कर नौकरी खरीदी कार्यपालिका कैसे एक ईमानदार प्रशासक को बर्दाश्त करेगी?

हरियाणा देश का सबसे ज़्यादा अराजक राज्य (anarchist state) है. बिहार से भी ज़्यादा Anarchist….

खट्टर साहब में सिर्फ एक कमी है. उनका डंडा कमजोर है. राजदंड….

याद रखिये…. राजा नहीं राज करता…. उसका राजदंड राज करता है. उत्तरप्रदेश में योगी का राजदंड ही राज कर रहा है.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY