ज़िंदगी हो जाती हैं मौत को छू कर आने वाली औरतें

ma jivan shaifaly sun flowwr poem making india
Ma Jivan Shaifaly

मौत को छू कर आने वाली औरतें जान जाती हैं
ज़िंदगी कितनी ख़ूबसूरत है
ज़िंदगी इसी पल है
मौत भी

जुड़वाँ बहने हैं दोनों
इकट्ठा ही दिल धड़कते हैं दोनो के
एक का दर्द दूसरी महसूस करती है
वक़्त आने पे थाम लेंगी एक दूजे का हाथ

मौत को छू कर आने वाली औरतें
यदा कदा प्यार में पड़ती रहती हैं
झूठ सुन कर मुस्कुराती हैं
ग़लत पर हंस देती हैं
रोते हुए को गले लगा लेती हैं
प्यार-प्यार ही हो जाती हैं

यूँ कि जैसे मौत का और प्यार का कोई गहरा रिश्ता हो
मौत को छू कर आने वाली औरतें
नहीं करती किसी का इंतज़ार
न ही झूठे दिलासे देती हैं
न सुनती हैं

हाँ, पर बेहद ख़ूबसूरत लगती हैं
शांत, स्थिर
चेहरे पे एक चमक
आँखों में एक गहराई
समझाती नहीं कुछ
समझती हैं सब कुछ

मौत को छू कर आने वाली औरतें
ग़ुस्सा कम ही करती हैं
मुआफ़ कर देती हैं आसानी से
शुक्रगुज़ार रहती हैं हर दम
हर रिश्ते, हर फ़रिश्ते
हर दुआ, हर मन्नत की अहसानमंद रहती हैं

ख़ुदा रहता है उनके आस पास
और वो ख़ुदा के पास रहती हैं

मौत को छू कर आने वाली औरतें ज़िंदगी हो जाती हैं
मोहब्बत हो जाती हैं
करुणा हो जाती हैं
प्रेरणा हो जाती हैं
– राजेश जोशी

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY