बंद हो सकता है क्रिकेट तमाशा IPL

नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट द्वारा बनाई गई प्रबंधक समिति (COA) और राज्य क्रिकेट संघों के बीच चल रहे झगड़े के चलते सट्टेबाज़ी, मैच फिक्सिंग का पर्याय बन चुका क्रिकेट तमाशा आईपीएल बंद हो सकता है.

सट्टेबाज़ी और मैच फिक्सिंग के अलावा बिजली और आनी के आव्याय के लिए कुख्यात इस आयोजन के न होने से विश्व के सबसे धनाढ्य क्रिकेट बोर्ड माने जाने वाले बीसीसीआई के दिवालिया के दिव्वालिया होने का खतरा मडराने लगा है.

मीडिया में आई खबरों के मुताबिक़ बीसीसीआई के एक अधिकारी ने बताया, अगर वे आईपीएल को छूते हैं, तो यह बड़ी आपदा होगी. तर्कों के आधार पर यदि आईपीएल 2017 आयोजित नहीं हुआ, तो बीसीसीआई को 2500 करोड़ रूपये का नुकसान होगा और दिवालिया हो जाएगा.”

उल्लेखनीय है कि पिछले वर्ष सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि जब तक लोढ़ा समिति की सिफारिशें राज्य क्रिकेट संघ लागू नहीं करेंगे, तब तक बीसीसीआई से उन्हें कोई फण्ड जारी नहीं होगा.

प्रत्येक राज्य संघ को आईपीएल के एक मैच के लिए 60 लाख रुपये दिए जाते हैं. इसमें 30 लाख रूपये बीसीसीआई से, और बाकी पैसे फ्रेंचाइजी से आते हैं. यह पैसा खेल, अभ्यास, लाइटिंग, मैदान को तैयार करने और ग्राउंड स्टाफ पर खर्च किया जाता है.

पिछले कुछ वर्षों से राज्य क्रिकेट संघों को बोर्ड से अग्रिम और शेष भुगतान टूर्नामेंट के दौरान मिलता रहा है. लेकिन इस बार सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर बनी लोढ़ा समिति की सिफारिशें न मानने के कारण राज्य क्रिकेट संघ मैच आयोजित करने में असमर्थ हैं.

इससे पहले भी न्यूजीलैंड, इंग्लैंड, बांग्लादेश और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट, वन-डे और टी20 सीरीज के आयोजन खतरे में थे. तब राज्य संघों ने कहा था कि वे इतना खर्चा वहन नहीं कर पाएंगे इसलिए सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें फण्ड जारी करने की अनुमति प्रदान कर दी थी.

इस वर्ष आईपीएल शुरू होने की तारीख 5 अप्रैल है और अब तक आईपीएल के लिए इस प्रकार की कोई सम्भावना नजर नहीं आ रही है. कुछ राज्य संघों का कहना है कि जब तक बोर्ड और फ्रेंचाइजी से उन्हें फण्ड नहीं मिलेगा, वे आयोजन कराने में असमर्थ हैं.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY