सरताज़ मियाँ, लाश तो पाकिस्तान ने भी नहीं ली थी कसाब की!

Saifullah-with father making india

सैफुल्लाह…  हमें नहीं पता था……!!

दोस्तों, आप सब से जीवन की कुछ महत्वपूर्ण स्वीकारोक्तियाँ…. आखिर आप सब से क्या शर्म……

(1) बहुत छोटा था, जब पहली बार, मम्मी के पर्स से 50 पैसे चुराए, 1 घंटे में पकड़ा गया, मम्मी ने खूब समझाया.

(2) थोडा बड़ा हुआ, गली में लड़ाई हुई, घूंसेबाज़ी की, आँख सूजी, पापा के सामने सिर्फ आधे दिन नहीं गया, पापा खूब ढूंढते हुए आये, आखें देखी, खूब चिल्लाये, पिटते पिटते बचा.

(3) थोडा बड़ा हुआ, पापा ने नई स्कूटर खरीदी, पापा के सोने के बाद रात को चोरी से स्कूटर निकाल कर चलाई, सुबह पकड़ा गया, खूब मारा पापा ने…

(4) थोडा बड़ा हुआ, आज की पत्नी, तब की प्रेमिका को लव लेटर लिखा, थोड़ा लंबा लिख रहा था, 3 दिन तक लिखता रहा था चोरी से, उसको देने से पहले ही मम्मी ने पकड़ लिया, बड़ा तमाशा बना, और तो और सभी चाचा, चाची, बुआ, दादा, दादी को भी पता चल गया.

दोस्तों, कॉपी पर पापा की झूठे साइन किये पकड़ा गया, कुली, शराबी, मर्द पहले दिन पहला शो देखने गया, मर्द देखी थी प्रेमसुख टॉकीज़ में, शराबी देवश्री में, कुली प्रकाश में….पकड़ा गया., पहली बार शराब पी, पकड़ा गया…..!

दोस्तों, ऐसा नहीं था कि मैं कोई आदतन ख़राब आदमी था, लेकिन आज कह सकता हूँ कि मेरे माँ बाप बहुत ही ज्यादा अलर्ट और चिंतित रहते थे हम दोनों भाइयों के लिए शायद इसलिए हम दोनों भाई कुछ अच्छा कर भी पाये……!!!

अब 100 डॉलर का प्रश्न… मियां सरताज़ खान साब के लिए, जो बड़ी आसानी से कह रहे है कि उन्हें नहीं मालूम था उनके बेटे की करतूतों के बारे में और इसलिये वो उसकी लाश नहीं लेंगे……!!!

अब, सरकार को चाहिए कि वे जरा भी न बहके, सरताज़ मियाँ लाश ले या न ले, लेकिन जम के पूछताछ करे मियां सरताज़ से….. और उस हाजी से जो सब्सिडी से तो हज कर आया लेकिन किरायेदार सैफुल्लाह के बारे में कुछ भी नहीं मालूम था उसे…..!!

लाहौल विला क़ूवत, क्या इस शांतिदूत कौम ने पागल समझ रखा है देश की जनता को…….!!

और हाँ, लाश तो पाकिस्तान ने भी नहीं ली थी कसाब की …..!!!

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY