वो नफ़रत की, तोड़ने की राजनीति करते हैं, और हम ‘जोड़ने’ की…

Making India

चेतावनी : या तो उन्हें सुनने की आदत हो या आपके पास एक एनासिन हो तो ही पढियेगा…

कुर्ते की सनातन अकाट्य बाँह को ऊपर करते हुए – उन्हें बस तोड़ना आता है और हमें जोड़ना. वह नफरत की राजनीति करते हैं और हम मोहब्बत की.

आज मैं आपको बताऊंगा कि कैसे तोड़ना उनके डीएनए में है और जोड़ना हमारे डीएनए में.

सबसे पहले उन्होंने जवाहरलाल नेहरू का घमंड तोड़ा, फिर उन्होंने देश की जनता का भ्रम तोड़ा कि कांग्रेस ही देश पर शासन कर सकती है.

फिर उन्होंने हमारे एक छत्र शासन का क्रम तोड़ा, फिर इन्होंने बाबरी मस्जिद तोड़ दी.

फिर उन्होंने परमाणु परीक्षण करके दुनिया में भारत के सॉफ्ट स्टेट होने की छवि तोड़ दी.

आज मैं आपको यह सिद्ध करके रहूंगा कि तोड़ना इनके डीएनए में है.

ये यही नहीं रूके… फिर इन्होंने कारगिल में हमारे पड़ोसी की कमर तोड़ दी.

2004 में हमारी सरकार आई तब हमने ‘सब कुछ’ जोड़ने का काम फिर से शुरू किया. हमने मिल कर बहुत कुछ जोड़ा… कॉमनवैल्थ, 2G, कोयला… अपने सहयोगियों को भी पूरा मौका दिया और उन्होंने भी खूब ‘जोड़ा’.

हमारे जीजाजी को देखिये जब से रिश्ता ‘जोड़ा’ है… अरबों, खरबों, रकबों को जोड़ते ही चले जा रहे है.

हमने पाकिस्तान के टूटे हुए दिल को भी फिर से जोड़ा, हमने करके दिखाया कि हम जोड़ने की राजनीति करते हैं और वह तोड़ने की.

फिर 2014 में उन्होंने बिना कांग्रेस, पूर्ण बहुमत का रिकॉर्ड तोड़ दिया, और फिर से तोड़ने का काम शुरू हो गया.

हमारे पड़ोसी पाकिस्तान का सम्बन्ध दुनिया से तुड़वा दिया, हमारे यहां काम कर रहे उनके कल्याणकारी संगठनों को भी तोड़ा.

फिर इन्होंने मंगल ग्रह पर विमान भेज दिया और सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए.

फिर इन्होंने पाकिस्तान से कठोर निंदा की परंपरा को भी तोड़ दिया और इस बार उन्होंने सैनिकों को भेजकर सीमाओं को भी तोड़ दिया.

और इनके सैनिकों ने वहां जाकर गांधी जी के अहिंसा के सपनों को भी तोड़ दिया.

इसलिए मैं आपको समझाता फिरता हूं कि ये तोड़ने की राजनीति करते हैं और हम जोड़ने की राजनीति करते हैं.

इसलिए आप यूपी में इनकी तोड़ने वाली सरकार मत बनने दो और हमें जोड़ने का मौका दो. हमने अखिलेश जी को अपने साथ जोड़ कर अपने जोड़ने की राजनीति का उदाहरण दे दिया है.

“वो तोड़ने की राजनीति करते हैं, नफरत की राजनीति करते है और हम ‘जोड़ने’ की.”

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY