निराधार है 1000 के नोट जारी करने की खबर, बढ़ाई जाएगी छोटे नोट की छपाई

नई दिल्‍ली. कुछ मीडिया रिपोर्टों के हवाले से प्रसारित भारतीय रिजर्व बैंक और केंद्र सरकार द्वारा एक हजार रुपये का नया नोट लाने की तैयारी की खबर को सरकार ने गलत ठहराते हुए इस तरह की किसी योजना से इनकार कर दिया है.

सरकार ने बुधवार को स्पष्ट किया कि एक हजार रुपये का नोट लाने की उसकी कोई योजना नहीं है. इस समय उसका ध्‍यान निम्न मूल्यवर्ग के नोटों का उत्पादन बढ़ाने पर है.

उल्लेखनीय है कि मीडिया के एक वर्ग में सरकार द्वारा 1,000 रुपये का नोट जल्द जारी किये जाने का समाचार दिया गया है. इसमें कहा गया है कि सरकार जल्द ही 1,000 रुपये का नोट जारी करेगी, इसके लिये तैयारियां शुरू हो गईं हैं.

इन रिपोर्ट्स में यहां तक कहा गया था कि एक हजार रुपये के नए नोटों की छपाई भी शुरू हो चुकी है. नए नोट अलग डिजाइन और सिक्योरिटी फीचर्स के साथ बाजार में आएंगे.

आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास ने आज कहा कि एक हजार रुपये का नोट लाने की कोई योजना नहीं है. इस समय निम्न मूल्यवर्ग के नोटों के उत्पादन और आपूर्ति पर ध्यान दिया जा रहा है.

उन्होंने लोगों से भी आग्रह किया है कि वह जरूरत से ज्यादा धन नहीं निकालें. एटीएम में नकदी की कमी की शिकायतों पर ध्यान दिया जा रहा है.

शक्तिकांत दास ने ट्वीट किया, ‘1,000 रुपये का नोट लाने की योजना नहीं है. 500 रुपये और निम्न मूल्यवर्ग के दूसरे नोटों के उत्पादन, आपूर्ति पर ध्यान दिया जा रहा है.’

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा, ‘एटीएम में नकदी समाप्त होने की शिकायतों पर ध्यान दिया जा रहा है. लोगों से आग्रह है कि उतनी ही नकदी निकालें जितने की वास्तव में जरूरत है. कुछ लोगों द्वारा अधिक निकासी दूसरों को इससे वंचित रख सकती है.’

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पिछले सप्ताह कहा था कि बंद किये गये 500, 1,000 रुपये के नोटों के स्थान पर नये नोटों को जारी करने का काम ‘करीब करीब सामान्य हो चला है.’ रिजर्व बैंक दैनिक आधार पर आपूर्ति स्थिति पर नजर रखे हुए है.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY