एक विचार प्रक्रिया की नुमाइंदगी करते हैं ट्रंप, बोले विदेश सचिव जयशंकर

मुंबई. अपनी आव्रजन नीति को लेकर आलोचनाओं का सामना कर रहे अमेरिकी राष्ट्रपति के बचाव में भारतीय विदेश सचिव एस जयशंकर आए हैं.

मंगलवार को विदेश सचिव एस जयशंकर ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को ‘भयावह’ तरीके से नहीं पेश करना चाहिए.

स्थानीय गेटवे हाउस डायलॉग में एक परिचर्चा के दौरान जयशंकर ने कहा, ‘ट्रंप को भयावह तरीके से मत पेश करिए, विश्लेषण करिए. वह एक विचार प्रक्रिया की नुमाइंदगी करते हैं. यह कोई अल्पकालिक अभिव्यक्ति नहीं है.’

विदेश मंत्रालय और गेटवे हाउस की ओर से संयुक्त तौर पर आयोजित कार्यक्रम में ‘राजनीतिक बदलाव एवं आर्थिक अनिश्चितताएं’ विषय पर अपने संबोधन में जयशंकर ने यह भी कहा कि भारत को वैश्विक स्तर पर बड़ी भूमिका निभानी है.

उन्होंने कहा, ‘ऐसे समय में जब कई बड़े देशों के फलक संकीर्ण होते जा रहे हैं. यदि बड़े (देश) कदम पीछे खींच रहे हैं तो वहां एक जगह बन रही है और उस जगह का इस्तेमाल करना हमारे हित में है.’

जयशंकर ने कहा, ‘मेरी राय में हमें अंतरराष्ट्रीय मंच पर ज्यादा सशक्त स्थिति हासिल करने की ओर देखना चाहिए.’

उल्लेखनीय है कि ट्रंप अपनी विवादित आव्रजन नीति को लेकर चौतरफा आलोचना का सामना कर रहे हैं. आव्रजन नीति सहित अपने कई फैसलों को लेकर ट्रंप विवादों में घिरे हैं.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY