आप दोनों की उछलकूद और मजहबी दूकानदारी साबित करती है कि हार रहे हैं आप!

सपा-कांग्रेस सत्ता में आई तो अल्पसंख्यकों को देंगे आबादी के हिसाब से आरक्षण : अखिलेश यादव और राहुल गांधी संयुक्त प्रेस वार्ता में.

सबसे पहले इस सेक्युलर घोषणा का स्वागत, बधाई हो… आप दोनों परम सेक्युलर हैं!

अब जरा ये बता दें…. आपने ये धार्मिक आरक्षण देने के ऐलान से पहले, मी लॉर्ड, आई मीन सुप्रीम कोर्ट से पूछा?

जनाब… आरक्षण, सायकिल की तरह आपकी पैतृक संपत्ति नहीं जिसे एक खानदानी हाथ के साथ के जरिये यूँ खैरात में बाँट देंगे आप.

वैसे जरा दो सवालों का जवाब दीजिये :

– आप का तो ‘काम’ बोलता था न? फिर पहले चरण के मतदान शुरू होने के ठीक तीसरे घँटे ये कौन सा काम बोल रहा है आपका?

आप चुनाव हार रहे हैं! आप दोनों की ये उछलकूद और मजहबी दूकानदारी इसे साबित करती है.

– धार्मिक आधार का आरक्षण आप देंगे… किनके हिस्सों से काट कर?

ओबीसी के 27 और दलितों के 22.5% में से ही न?

अनुसूचित जाति का सरकारी ठेकों में 21% और जनजाति का 2% जातिगत आरक्षण आपने 2012 में सपा सरकार आते ही खत्म किया.

अन्य पिछड़ी जातियों (ओबीसी) में आपकी पैतृक जाति के अलावा बाकी की जातियां कितने हिस्से में हैं जमीन… पर ये उनका दिल जानता है.

क्यों दलितों, जनजातियों, पिछड़ों के संवैधानिक हक़ में डाका डाल रहे हैं साहिबों?

उत्तर प्रदेश! बचो इन अवसर में समानता के संवैधानिक अधिकार…. जातिगत आरक्षण के डकैतों से.

उत्तर प्रदेश में दलितों के हिस्से में कितना डाका डाला है आपकी समाजवादी सरकार ने इन पांच सालों में इस पर भी एक नज़र डाल ही लीजिए –

1. सरकारी ठेकों में आरक्षण ख़त्म किया.

2. भूमि आवंटन में एससी / एसटी को मिलने वाली प्राथमिकता को ख़त्म किया.

3. एससी/एसटी पहले कृषि योग्य भूमि अपने ही वर्ग में बेच सकते थे; अब किसी को भी बेच सकते हैं. ऐसा घातक विधेयक सपा सरकार ने बनाया.

4. कोर्ट के आदेश की आड़ में गलत तरीके से उन कर्मचारियों को भी पदावनत कर दिया जो बिना आरक्षण के तरक्की पाए थे.

5. अनुसूचित जाति के छात्रावासों में सामान्य वर्ग के छात्रों को 30 प्रतिशत आरक्षण सपा सरकार ने ही दिया.

6. गौतम बुद्ध यूनिवर्सिटी से अनुसूचित जाति के छात्रों को अध्ययन के लिए विदेश भेजा जाता था, उसको भी ख़त्म किया सपा सरकार ने.

7. कक्षा 1 से आठ तक की छात्रवृत्ति ख़त्म की.

8. गौतम बुद्ध टेक्निकल यूनिवर्सिटी का नाम बदलकर ए पी जे अब्दुल कलाम यूनिवर्सिटी किया.

9. मान्यवर कांशीराम कृषि विश्विद्यालय का नाम बदल कर बाँदा कृषि विश्विद्यालय कर दिया .

10. डॉ अम्बेडकर उपवन का नाम बदलकर जनेश्वर मिश्र पार्क किया .

11. शोषित वंचित और पिछड़े समाज के महापुरुषों और संतो के नाम पर बने जिलों का नाम बदल दिया जैसे संत रविदासनगर का नाम बदलकर भदोही और भीमनगर का नाम बदलकर संभल किया .

12. आरक्षित पदों की कुल संख्या (रिक्तियों) की गणना करने के लिए लागू “राउंड ऑफ़” (गणित) का फार्मूला ही बदल दिया जिससे 1.99 रिक्त पदों को सिर्फ एक पद माना जायेगा. इससे SC के साथ ओबीसी को भी भारी नुकसान है.

13. लोकसभा में पारित होने जा रहे पदोन्नति में आरक्षण विधेयक को मुलायम सिंह यादव ने दलित सांसद से फड़वाकर घोर अन्याय किया है. इससे SC के साथ ही ओबीसी के लिए भी प्रमोशन में आरक्षण का रास्ता बंद हो गया है.

14. थानों में थानाध्यक्षों की तैनाती में लागू एससी/एसटी/ओबीसी आरक्षण को खत्म किया गया.

15. पुलिस भर्ती में शुल्क सामान्य वर्ग के बराबर ही एस सी/एस टी से वसूला गया.

16. प्रदेश में SC & ST के गरीब, निराश्रित, विकलांग, विधवा, आदि को मिलने वाला शादि बीमारी अनुदान बंद कर दिया.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY