क्योंकि मैं ही प्रथम और मैं ही अंतिम हूँ

ma-jivan-shaifaly-article-on-women-moksha
WOMEN

क्योंकि मैं ही प्रथम और मैं ही अंतिम हूँ
मैं ही सम्मानित और मैं ही तिरस्कृत हूँ

मैं ही भोग्या और मैं ही देवी हूँ
मैं ही भार्या और मैं ही कुमारी हूँ

मैं ही जननी और मैं ही सुता हूँ
मैं ही अपनी माता की भुजाएँ हूँ

मैं बाँझ हूँ किंतु अनेक संतानों की जननी हूँ

मैं विवाहिता स्त्री हूँ और कुँवारी भी हूँ

मैं जनित्री हूँ और जिसने कभी नहीं जना वो भी मैं हूँ

मैं प्रसव पीड़ा की सांत्वना हूँ
मैं भार्या और भर्तार भी हूँ

और मेरे ही पुरुष ने मेरी उत्पत्ति की है
मैं अपने ही जनक की जननी हूँ

मैं अपने ही भर्तार की भगिनी हूँ
और वह मेरा अस्वीकृत पुत्र है

सदैव मेरा सम्मान करो
क्योंकि मैं ही लज्जाकारी और मैं ही देदीप्यमान हूँ

……………. Paulo Coelho Eleven Minutes  …………….

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY