कश्मीर में पाकिस्तानी आतंकवाद नेहरू की गलतियों का नतीजा : जितेंद्र सिंह

नई दिल्ली. केंद्रीय मंत्री और जम्मू-कश्मीर की उधमपुर लोकसभा सीट से भाजपा सांसद जितेंद्र सिंह ने कश्मीर में पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद के लिए कान्रेस नेता और पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की गलतियों को ज़िम्मेदार ठहराया.

सिंह ने शनिवार को कहा कि नेहरू की ओर से इस मामले से ठीक से नहीं निपटने से शुरु होकर पिछले 60 साल में की गई कई गलतियों का मिलाजुला नतीजा है.

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अगर पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने सही कदम उठाए होते तो आज आतंकवाद की स्थिति इतनी भयावह न होती.

‘काउंटरिंग पाकिस्तान स्टेट टेरर’ सम्मेलन में सिंह ने कहा, ‘यदि नेहरू ने खुद की बजाय तत्कालीन गृह मंत्री सरदार पटेल को जम्मू-कश्मीर का मामला गृह मंत्रालय के अधिकार क्षेत्र में लाकर इसे सुलझाने दिया होता तो भारतीय उप-महाद्वीप का इतिहास अलग ही होता.’

उन्होंने कहा, ‘यदि नेहरू ने गृह मंत्री पटेल को कश्मीर मामला सुलझाने दिया होता, तो भारतीय उप महाद्वीप का इतिहास ही दूसरा होता. लेकिन, इसके बदले वे खुद गृह मंत्रालय के मामलों में दखल देते रहे.’

जितेन्द्र सिंह ने कहा कि हाल में की गई सर्जिकल स्ट्राइक पड़ोसी देश की ओर से प्रायोजित आतंकवाद के खिलाफ केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार की ओर से उठाए गए निर्णायक कदमों का एक उदाहरण है.

उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार ने पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद के खिलाफ निर्णायक कदम उठाए हैं.

उन्होंने 500 और 1000 रुपए के पुराने नोटों को बंद करके नए नोट जारी करने और ‘पाकिस्तान के क्षेत्र के भीतर की गई सर्जिकल स्ट्राइक’ को मोदी सरकार की प्रबल इच्छाशक्ति बताया.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY