कभी हमें गर्व होता था कि इतना छोटा लड़का हमारा सीएम है

ए अखिलेश भईया… जानते हैं? जब आप 2012 में cm बने थे ना… तब सही बता रहे हैं कि हम मन ही मन बहुते खुश थे…. भले ही हम आपका पार्टी को पसंद नहीं करते लेकिन आप जैसे युवा नेता से हम बहुत प्रभावित थे…

हमें बहुत गर्व होता था कि इतनी कम उम्र का नेता हमारा सीएम है…. हमें यही लगा कि आप अपने चचा और बाऊ जी की रुढ़िवादी तुष्टिकरण की नीति को तिलांजलि देकर सर्व धर्म समभाव के पथ पर चलेंगे…

लेकिन जिस दिन आप ने ये बयान दे दिया कि केवल मुस्लिम लड़कियां ही हमारी बेटियां है तो कसम से आप पर से भरोसा उतर गया… आप तो अपने पिता से भी गए गुजरे निकले, ये बात मुजफ्फरनगर के दंगे के बाद पता चल गयी…

शायद हम हिन्दू दुनिया की सबसे बदनसीब कौम है… मंदिर का घंटा है… कोई भी आया और बजा कर चला गया… कभी हूणों ने, तो कभी यवनों ने, तो कभी मुगलों ने, कभी विदेशी मुसलमान लुटेरों ने हमें लूटा मारा काटा…

लेकिन हम हमेशा अपने हाथो में मेहंदी लगाए, मुंह में दही जमाये, सर्व धर्म समभाव और अहिंसा परमो धर्म को आत्मसात कर के अपने दुश्मनों को पूजते रहे… और साहब, आज हालात ये हो गये हैं कि कोई भी ऐरा-गैरा आता है और कहता है कि अपने मंदिर का घंटा उतारो, बगल वाले मस्जिद में नमाज हो रही है, डिस्टर्ब हो रहा है… और हम उतार देते है…

कोई दिल्ली में बैठकर हाई कोर्ट से आदेश दे देता है कि हिन्दू अपनी मूर्ति गंगा में ना बहायें… दिवाली में पटाखे ना जलाए… होली में पानी ना बहायें… दही हांड़ी ना मनाये… और हम शान्तिपूर्वक मान भी जाते है…

क्यों हैं हम इतने ठन्डे?… क्यों नहीं गरम होता हमारा खून?… कैसे हमारे सामने कोई हमारी सनातन सभ्यता का प्रतिनिधित्व करने वाले भगवान राम को गाली देकर चला जाता है और हम विरोध तक नहीं जता पाते?

कैसे कोई हमारी भारत माँ और माँ सरस्वती का नंगा चित्र बना देता है और हम चुप रहते है? कैसे कोई हमारे मंदिरों को तोड़ देता है, कैसे हमारे जुलूसों में हम पर हमला होता है?

कैसे हमारी बहनों की इज्जत लूट ली जाती है? और कैसे हमारी गो माता को हमारे सामने ही काट कर खाया जाता है? और हम कैसे सह जाते है?…

क्यों मर चुकी है वीरता हमारे अन्दर की? क्यों मर चुकी है हमारी आत्मा?… क्यों बिक चुका है स्वाभिमान हमारे अन्दर का? क्यों नहीं खौलता खून जब हमें नपुंसक कहा जाता है? क्यों नहीं खौलता हमारा खून जब हमे कश्मीर, मालदा, पुरनिया, असम, केरल, बंगाल और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में मारा जाता है?

जिस देश में एक बाबरी का बदला 1000 हिंदुओं को मार कर और पूरी दुनिया में सैकड़ों मंदिरों को तोड़ कर लिया जाता हो, उस देश में आप धर्मनिरपेक्ष कैसे रह सकते है?…

जिस देश में एक मुसलमान जन्म से हिन्दुओं के लिए नफरत और हिंसा की मानसिकता लेकर पैदा हुआ हो, उस देश में आप गंगा जमुनी तहजीब की बात कैसे कर सकते है?…

जिस देश में संसाधनों का आवंटन ही हिन्दू मुस्लिम देखकर किया जाता हो उस देश को आप धर्म निरपेक्ष कैसे कह सकते हैं? वहां बच्चे को बचपन से ही बकरा काटना सिखाया जाता है और यहाँ हम पैदा होते ही बच्चो को डांस इंडिया डांस में भेजने की तैयारी कराने लगते है..

आप कैसे कह सकते हैं कि आई हेट पॉलिटिक्स?… कोई आपकी माँ को गाली दे और आप उसे गले लगाने की बात करें? ये ज़हालत के अलावा कुछ नहीं है…

इन्ही नामुरादों की वजह से ना जाने हमारी कितनी पदमावतियाँ जलती चिता पर जिन्दा ही स्वाहा हो गयी और यहाँ हम हिन्दू मुस्लिम भाई चारा निभा रहे है?…

ऐसे लोग जो खुद को सबसे बड़ा धर्मनिरपेक्ष घोषित करते हैं, ऐसे ही लोगों को मैं दुनिया के सबसे घृणित लोगों की श्रेणी में डालता हूँ… ऐसे ही लोग हमारे हिन्दू समाज के दुश्मन है…

अपने बच्चो को पैदा होते ही बताइए कि मुसलमान कौन होते हैं? क्या होते हैं?… इस्लाम क्या है? कुरआन-हदीस क्या है?… तभी आपकी आने वाली पीढ़ी सही मायनो में धर्मनिरपेक्ष होगी…

आपको अपने बच्चे को ऐसी शिक्षा देनी होगी जो उसे ऐसे व्यक्तित्व का धनी बनाए जिसमें अगर कोई उसके सामने भगवान राम को गाली दे तो उसके बाद बोलने के लिए उसकी जीभ ही ना रहे…

आने वाला समय आज से ज्यादा चुनौतीपूर्ण है… उसकी तैयारी अभी से करनी होगी… आईये प्रण लीजिये कि हम अपनी आने वाली पीढ़ी को खुद से भी ज्यादा राष्ट्रवादी बनायेंगे… और 10-10 बच्चे पैदा करने वालों को बता देंगे कि हम दो ही पैदा करते हैं, पर शेर पैदा करते है…

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY