16 बरस की बाली उमर को सलाम, ऐ प्यार तेरी पहली नज़र को सलाम

  “एक पिता ने जब अमृत का अंश इश्क के हाथों में सौंपा तो अमृत का वो अंश जीवन में पल्लवित हुआ….” यूं तो ये अफसाना यहीं पर ख़त्म हो जाता यदि सिर्फ अफसाना होता… लेकिन ऐसे अफ़सानों को जब इश्क़ अपनी हिफाज़त में ले लेता है तो जीवन की सच्ची कहानी बन जाता है… … Continue reading 16 बरस की बाली उमर को सलाम, ऐ प्यार तेरी पहली नज़र को सलाम