सपा-कांग्रेस पर फूटेंगे प्रशांत किशोर के बनाए हज़ारों चुनावी आत्मघाती बम!

समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन के कारण कांग्रेस उत्तरप्रदेश में केवल 80 या 100 सीटों पर चुनाव लड़ेगी.

लखनऊ जनपद की कुल 9 विधानसभा सीटों में से सपा कांग्रेस को केवल एक सीट देगी जबकि कांग्रेस दो सीटें चाह रही है.

हालांकि चलेगी सपा की ही और कांग्रेस को सपा एक सीट ही देगी.

यह तय होने के बाद आज कुछ उन कांग्रेसी मित्रों से वार्ता हुयी जो लखनऊ में पिछले 7-8 महीनों से चुनाव लड़ने की जोरदार तैयारी कर रहे थे.

गठबंधन पर उनकी प्रतिक्रिया पूछते ही उन्होंने जिस शैली में, जिन शब्दों के साथ कांग्रेस के चुनावी चाणक्य और इस गठबंधन के सूत्रधार प्रशांत किशोर उर्फ़ पीके के परिवार की महिलाओं का स्मरण करते हुए अपनी प्रतिक्रिया दी, उसे यहां लिख नहीं जा सकता.

यह स्थिति केवल लखनऊ की नहीं है. उत्तरप्रदेश की 403 सीटों में से हर सीट पर 5 से 10 लोगों को संभावित प्रत्याशी बनाकर प्रशांत किशोर उनसे यह कह कर जबरदस्त मेहनत करवा रहा था कि जो सबसे ज्यादा मेहनत करेगा, टिकट उसी को देंगे.

अब जब चुनाव की घड़ी आयी तो प्रशांत किशोर ने उन 403 में से 323 सीटों के टिकट समाजवादी पार्टी को देने का फैसला किया है.

मामला दस बीस सीटों पर बवाल का होता तो यह कोई ख़ास बात नहीं होती, चुनावी मौसम में विद्रोह की ऐसी आंधी हर दल को झेलनी पड़ती है.

लेकिन 323 या 303 सीटों पर स्वयं प्रशांत किशोर द्वारा निर्मित लगभग ढाई से तीन हज़ार आत्मघाती चुनावी बमों के कहर की मार कांग्रेस और सपा पर बहुत भारी पड़ेगी.

Comments

comments

loading...

LEAVE A REPLY